Wednesday, Oct 20, 2021
-->
coronavirus delhi high court increases interim bail of 2961 undertrials rkdsnt

कोरोना संक्रमण : कोर्ट ने बढ़ाई 2,961 विचाराधीन कैदियों की अंतरिम जमानत

  • Updated on 6/22/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली हाई कोर्ट ने कोविड-19 महामारी के दौरान जेलों में भीड़ कम करने के उद्देश्य से सोमवार को 2,961 विचाराधीन कैदियों की अंतरिम जमानत 45 दिन के लिए बढ़ा दी। जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और जस्टिस तलवंत सिंह की पीठ ने उच्चाधिकार प्राप्त समिति की उस सिफारिश के मद्देनजर यह आदेश पारित किया जिसमें कहा गया था कि महामारी का खतरा अब भी काफी अधिक होने के कारण कैदियों को जेल में वापस भेजना जोखिम भरा होगा।

मानसून के मद्देनजर दिल्ली PWD में अवकाश लेने की इजाजत नहीं

अदालत ने कहा कि अंतरिम जमानत की अवधि खत्म होने के दिन से इन विचाराधीन कैदियों की अंतरिम जमानत समान नियम-शर्तों पर 45 दिन के लिए बढ़ाई जाती है। मामले में अगली सुनवाई चार अगस्त को होगी। जस्टिस हिमा कोहली की अध्यक्षता वाली समिति ने 20 जून को हुई अपनी बैठक में कहा था कि क्योंकि इस बारे में निश्चित तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता कि महामारी का खतरा कब टलेगा और भौतिक दूरी बनाए रखने की जरूरत कब खत्म होगी, इसलिए विचाराधीन कैदियों की अंतरिम जमानत क्रमश: उनकी अंतरिम जमानत की अवधि खत्म होने के दिन से और बढ़ाए जाने की आवश्यकता है। 

कोरोना महामारी ने बस, टैक्सी सेक्टर की Jobs को लगाई करारी चपत

सुनवाई के दौरान जेल अधिकारियों की ओर से पेश हुए दिल्ली सरकार के स्थायी वकील राहुल मेहरा और अधिवक्ता चैतन्य गोसाईं ने कहा कि उन्हें जमानत बढ़ाए जाने पर कोई आपत्ति नहीं है। पीठ ने कहा, ‘‘तदनुसार, आदेश दिया जाता है कि 2,961 विचाराधीन कैदियों को 45 दिन के लिए मिली अंतरिम जमानत, उच्चाधिकार प्राप्त समिति की सिफारिशों के मद्देनजर, क्रमश: उनकी अंतरिम जमानत अवधि खत्म होने के दिन से, समान नियम-शर्तों पर 45 दिन के लिए और बढ़ाई जाती है।’’ 

दिल्ली यूनिवर्सिटी में पूर्वस्नातक पाठ्यक्रम के लिए हजारों छात्रों ने शुरू किया रजिस्ट्रेशन

अदालत ने जेल महानिदेशक को यह सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया कि संबंधित सभी 2,961 विचाराधीन कैदियों को आदेश की जानकारी टेलीफोन या अन्य उपलब्ध माध्यमों से दी जाए। सुनवाई के दौरान दिल्ली राज्य कानूनी सेवाएं प्राधिकरण के सदस्य सचिव कंवलजीत अरोड़ा ने कहा कि स्थिति पहले जैसी ही है और विचाराधीन कैदियों को जेल में इस समय वापस लाना संभव नहीं है। इसलिए राहत की अवधि बढ़ाई जानी चाहिए। 

CISF के जवान की कोरोना संक्रमण से मौत, अब तक 18 जवान गंवा चुके हैं जान

जेल महानिदेशक संदीप गोयल ने कहा कि जेलों में भीड़ कम करने की प्रक्रिया शुरू होने से पहले जेल में 10 हजार की क्षमता के विपरीत 18 हजार कैदी थे। भीड़ कम करने के कदम के बाद यद्यपि जेल में अब भी क्षमता से अधिक कैदी हैं, लेकिन अब इनकी संख्या 13,677 है जो एक बड़ी राहत है। 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.