Friday, May 07, 2021
-->
court big verdict husband will be guilty for every injury suffered by wife in laws pragnt

कोर्ट का बड़ा फैसला- ससुराल में पत्नी को लगी हर चोट के लिए दोषी होगा पति

  • Updated on 3/9/2021

नई दिल्ली/ प्रियंका अग्रवाल। महिलाओं के आत्मसम्मान और रक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने एक बार फिर बड़ा फैसला सुनाया है। ससुराल में महिला के साथ होने वाली घरेलू हिंसा को लेकर अदालत ने कहा कि अगर पत्नी के साथ ससुराल में किसी भी तरह की मार- पीट होती है तो उसको लगी एक- एक चोट के लिए उसका पति ही जिम्मेदार होगा। गौरतलब है कि 'अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस' पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि वह 'महिलाओं का बहुत सम्मान' करता है।

करनैल सिंह बोले, चुनावी लाभ के लिए बटला हाउस एनकाउंटर को बताया गया फर्जी

ससुराल में पत्नी को लगी चोट के लिए पति जिम्मेदार- SC
सुप्रीम कोर्ट ने अपना ये फैसला उस संदर्भ में सुनाया है जिसमें अपनी पत्नी से मारपीट करने वाले एक शख्स ने अग्रिम जमानत के लिए याचिका दायर की थी, जिसे कोर्ट ने यह कहते हुए खारिज कर दिया कि ससुराल में पत्नी को लगी हर चोट के लिए पति ही जिम्मेदार होगा।

कोर्ट ने सोमवार को कहा कि अगर ससुराल में पत्नी के साथ कोई भी मारपीट करता है तो उसकी चोटों के लिए मुख्य रूप से उसका पति ही जिम्मेदार होगा, भले ही यह चोट उसके किसी अन्य रिश्तेदारों की वजह से आई हो। बता दें कि अदालत जिस पत्नी की पिटाई के आरोपी व्यक्ति की सुनवाई कर रही थी, उसकी यह तीसरी शादी है। वहीं महिला की दूसरी शादी है।

कोलकाता के सरकारी दफ्तर में लगी आग, अभी तक 9 की मौत

पीड़ित महिला ने लगाया ये आरोप
एक समाचार पत्र के मुताबिक, शादी के एक साल बाद 2018 में दोनों ने एक बच्चे को जन्म दिया था। वहीं पिछले साल 2020, जून महीने में महिला ने अपने पति और ससुरालवालों के खिलाफ लुधियाना पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

अपनी शिकायत में महिला ने आरोप लगाया कि उसे दहेज को लेकर ससुराल वालों द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है। महिला ने यह भी कहा कि ससुराल वालों की तरफ से लगातार दहेज की बढ़ती मांगो को पूरा न करने पर उसे उसके पति, ससुर और सास ने बहुत ही बेरहमी से उसे पीटा था। 

वह दिन दूर नहीं जब समूचा देश मोदी के नाम पर होगा : ममता बनर्जी

CJI ने पूछा- आप किस तरह के मर्द हैं?
इस मामले में आरोपी शख्स के वकील कुशाग्र महाजन ने जब अग्रिम जमानत दिए जाने पर बार- बार जोर दिया तो चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एसए बोबडे की अगुवाई वाली बेंच ने सख्त टिप्पणी की। बेंच ने महिला के पति से कहा, 'आप किस तरह के मर्द हैं? महिला का आरोप है कि आप उसका गला दबाकर उसे मारने की कोशिश करते थे। उसने यह भी कहा है कि आपने जबरन उसका गर्भपात कराया।' कोर्ट ने पूछा कि आप किस तरह के आदमी हैं जो अपनी पत्नी को एक क्रिकेट बैट से पीटते हैं?

गृह मंत्रालय के आदेश पर NIA ने संभाली अंबानी के घर के निकट मिले वाहन मामले की जांच

कोर्ट ने जमानत देने से किया इनकार
जब शख्स के वकील ने बेंच से कहा कि महिला ने अपनी शिकायत में खुद लिखा है कि उसे उसके ससुर बैट से पीटा करते थे तो इस पर सीजेआई के नेतृत्‍व वाली पीठ ने कहा, 'इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि बैट से महिला की पिटाई आपने की या आपके पिता ने। अगर ससुराल में महिला को कोई भी चोट लगती है तो इसकी मुख्य रूप से जिम्मेदारी पति की ही होती है।' इसके साथ ही कोर्ट ने आरोपी शख्स की याचिका खारिज करते हुए गिरफ्तारी से पहले जमानत देने से इनकार कर दिया। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.