Monday, Jan 21, 2019

CRPF जवान की आई.डी. इस्तेमाल कर ठगे डेढ़ लाख, वारदात के बाद बंद किया मोबाइल फोन

  • Updated on 12/29/2018

नई दिल्ली/सुनील। जालंधर में सैनी कालोनी निवासी एक दर्जी से बोलैरो गाड़ी बेचने के बहाने डेढ़ लाख रुपए की ठगी किए जाने का मामला सामने आया है। 

ओ.एल.एक्स. पर एक व्यक्ति ने खुद को सी.आर.पी.एफ. का जवान बताते हुए एक बोलैरो गाड़ी के फोटो व वीडियो पोस्ट किए, जिन्हें देखकर जालंधर के बद्री प्रसाद ने गाड़ी पसंद की और विक्रेता के सी.आर.पी.एफ. पहचान पत्र पर विश्वास करते हुए कुछ किस्तों में डेढ़ लाख रुपए जमा कर दिए। 

ऑनलाइन डेढ़ लाख रुपए की रकम हासिल करने के बाद कथित ठग नवीन सिंह तोमर का मोबाइल नंबर बंद जा रहा है और अब पीड़ित अपने पैसे हासिल करने के लिए पुलिस के दरवाजे खटखटा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्रालय तक पहुंची हैकर्स की फौज, खाते से उड़ाए ढाई करोड़ 

ऐसे हुई ठगी
पीड़ित बद्री प्रसाद ने 15 दिसम्बर को ओ.एल.एक्स. एप पर बिक्री के लिए पड़ी एक बोलैरो गाड़ी देखी। बेचने वाले ने खुद का नाम नवीन सिंह तोमर बताते हुए खुद को सी.आर.पी.एफ. का सब इंस्पैक्टर बताया और अपनी तैनाती जम्मू एयरपोर्ट पर बताई। बोलैरो पसंद आने के बाद बद्री प्रसाद की तोमर के साथ बातचीत शुरू हो गई।  

बद्री प्रसाद ने तोमर को गाड़ी दिखाने के लिए कहा तो उसे तर्क दिया गया कि वह इतनी दूर से गाड़ी लेकर आएगा तो उसके आने- जाने का काफी खर्च होगा और अगर हमारी मुलाकात न हुई तो मेरा आर्थिक नुक्सान होगा। इसलिए आप मेरे बैंक अकाऊंट में 20 हजार रुपए ट्रांसफर कर दें।

इसके बाद आरोपी ने कुछ दस्तावेज भेजने के बाद और पैसों की मांग की और बद्री प्रसाद ने एक बार फिर पे.टी.एम. से 70 हजार रुपए ट्रांसफर किए। फिर अगले दिन उसने और पैसों की मांग करते हुए मोबाइल पे एप के माध्यम से पैसे डालने को कहा। तोमर ने कहा कि अगर उसे गाड़ी पसंद नहीं आएगी तो वह केवल अपने आने-जाने का खर्चा काटकर बाकी रुपए उसे लौटा देगा।

आतंकी मुफ्ती सुहैल की आवाज में सीरियल ब्लास्ट का Video हुआ वायरल, NIA ने जांच में किया शामिल

इसके बाद पीड़ित ने उसे 60 हजार रुपए के करीब और पैसे ट्रांसफर किए। अगले दिन जब बद्री प्रसाद ने उसे फोन किया तो आरोपी का फोन स्विच ऑफ आने लगा।  इसके बाद आरोपी ने ओ.एल.एक्स. पर डाली गई बोलैरो गाड़ी की फोटो भी हटा दी। बद्री प्रसाद ने कहा कि सैन्य वेशभूषा में फोटो तथा आई.डी. प्रूफ देखकर वह तोमर पर भरोसा कर बैठा, जिसका खमियाजा उसे डेढ़ लाख रुपए गंवा कर भुगतना पड़ा। 

पुलिस कमिश्नर को दी शिकायतपीड़ित बद्री प्रसाद ने पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्लर को इस बाबत शिकायत सौंपी है और उन्हें मामले की जांच कर उसके पैसे लौटाने व आरोपी पर कार्रवाई की गुहार लगाई है। पुलिस कमिश्नर ने पीड़ित को कहा कि वह इस मामले की गहनता से जांच करवाएंगे। 

ऊधमपुर में रजिस्टर्ड है बोलैरो
पंजाब केसरी ने बोलैरो की नंबर प्लेट (जे.के. 14 सी.-2999) के आधार पर गाड़ी के असल मालिक की जांच की तो यह सामने आया कि बोलैरो 2012 माडल की है और जम्मू-कश्मीर के ऊधमपुर में रजिस्टर्ड है। सरकारी रिकार्ड के मुताबिक गाड़ी पर जे.एम. इंडस्ट्री का मालिकाना हक है इसका बीमा खत्म हो चुका है लेकिन गाड़ी का नंबर सरकारी रिकार्ड में एक्टिव दिखाया गया है।

कोडुयंगैयूर विस्फोट बरामदगी मामले में सात दोषियों को सजा, 5 साल का सश्रम कारावास

आप भी रहें इस आई.डी. प्रूफ से सावधान!
पंजाब केसरी ने मामले की तह तक जाने के लिए जम्मू में सी.आर.पी.एफ. के अफसरों से बात की तो पता चला कि तोमर सी.आर.पी.एफ. का ही जवान है और मौजूदा समय में कोलकाता में तैनात है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक नवीन सिंह तोमर की आई.डी. किसी नौसरबाज ने कुछ महीने पहले हैक कर ली थी जिसका फायदा उठाकर वह पहले भी ठगी कर चुका है।

नवीन सिंह तोमर एक ईमानदार जवान है। इस मामले की शिकायत भी उसने ई.डब्ल्यू. विंग देहरादून में दी हुई है। जिसकी अभी जांच चल रही है। नौसरबाज ने अब दूसरी बार उसकी आई.डी. प्रयोग कर यह ठगी की है। जिसकी विभाग की ओर से भी जांच की जाएगी। फिलहाल नवीन सिंह तोमर की तैनाती इस समय कोलकाता में है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.