Wednesday, Aug 10, 2022
-->
delhi court grants transit remand of lawrence bishnoi to punjab police

दिल्ली की अदालत ने लॉरेंस बिश्नोई की ट्रांजिट रिमांड पंजाब पुलिस को प्रदान की

  • Updated on 6/14/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली की एक अदालत ने पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या से जुड़े मामले की जांच के संबंध में पंजाब पुलिस को गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को पंजाब ले जाने के लिए मंगलवार को ट्रांजिट रिमांड प्रदान कर दी। पंजाब पुलिस ने मामले में लॉरेंस बिश्नोई को औपचारिक रूप से गिरफ्तार करने के बाद उसे अदालत के समक्ष पेश किया, जिसके बाद अदालत ने आदेश पारित किया। 

दिल्ली की तर्ज पर पंजाब के सीएम मान ने शुरू की ऑनलाइन ड्राइविंग लाइसेंस सुविधा

 

अदालत ने राज्य पुलिस को बिश्नोई को बुधवार को मानसा अदालत में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश करने का निर्देश दिया। पंजाब पुलिस ने कहा था कि मूसेवाला हत्याकांड में लॉरेंस बिश्नोई गिरोह शामिल था। मूसेवाला की 29 मई को पंजाब के मानसा जिले में अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।      

उत्तर प्रदेश में बुलडोजर कार्रवाई के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मुस्लिम संगठन 


लॉरेंस बिश्नोई गिरोह के दो सदस्य मोहाली से गिरफ्तार
पंजाब पुलिस ने कनाडा में रह रहे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ के निर्देश पर काम कर रहे लॉरेंस बिश्नोई गिरोह के दो सक्रिय सदस्यों को गिरफ्तार किया है। मोहाली के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विवेक शील सोनी ने मंगलवार को बताया कि गगनदीप सिंह उर्फ गागी और गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी को उस समय गिरफ्तार किया गया, जब वे मोहाली में हथियारों की एक खेप पहुंचाने जा रहे थे। उन्होंने बताया, दोनों हरियाणा के सिरसा जिले में डबवाली के किंगरा के रहने वाले हैं। सोनी ने बताया कि आरोपियों के पास से दो पिस्तौल, आठ कारतूस और हरियाणा के पंजीकरण नंबर वाली एक एसयूवी बरामद की गयी है। आरोपियों के खिलाफ मोहाली में शस्त्र अधिनियम सहित कानून के प्रासंगिक प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया है। 

सैट ने NSEL मामले में 5 ब्रोकरों के खिलाफ SEBI का आदेश किया रद्द

सोनी ने कहा कि दोनों गैंगस्टर मनप्रीत सिंह उर्फ मन्ना के जरिए गोल्डी बराड़ के नियमित संपर्क में थे। मन्ना ने कथित तौर पर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में हमलावरों को एक कार मुहैया करवायी थी। मन्ना को हाल ही में गिरफ्तार किया गया था। विवेक सोनी ने एक आधिकारिक बयान में कहा, दोनों आरोपी गोल्डी बराड़ के निर्देश पर काम कर रहे थे और पंजाब और राजस्थान के सीमावर्ती इलाकों से अवैध हथियारों की तस्करी में शामिल थे। सोनी ने कहा कि गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए मोहाली पुलिस ने‘एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स‘(एजीटीएफ) के एक दल के साथ एक अभियान चलाया, जिसके बाद गिरफ्तारियां की गयीं। उन्होंने कहा कि मामले में आगे की जांच जारी है।

राहुल गांधी ने 10 लाख नौकरियों पर कहा- यह ‘महा जुमलों’ की सरकार है

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.