Friday, Oct 30, 2020

Live Updates: Unlock 5- Day 30

Last Updated: Fri Oct 30 2020 03:35 PM

corona virus

Total Cases

8,089,593

Recovered

7,371,898

Deaths

595,151

  • INDIA8,089,593
  • MAHARASTRA1,666,668
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA816,809
  • TAMIL NADU719,403
  • UTTAR PRADESH477,895
  • KERALA418,485
  • NEW DELHI375,753
  • WEST BENGAL365,692
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA288,646
  • TELANGANA235,656
  • BIHAR214,946
  • ASSAM205,635
  • RAJASTHAN193,419
  • CHANDIGARH183,588
  • CHHATTISGARH183,588
  • GUJARAT171,040
  • MADHYA PRADESH169,999
  • HARYANA163,817
  • PUNJAB132,727
  • JHARKHAND100,964
  • JAMMU & KASHMIR92,677
  • UTTARAKHAND61,566
  • GOA42,747
  • PUDUCHERRY34,482
  • TRIPURA30,290
  • HIMACHAL PRADESH21,476
  • MANIPUR17,604
  • MEGHALAYA8,677
  • NAGALAND8,296
  • LADAKH5,840
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,305
  • SIKKIM3,863
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,238
  • MIZORAM2,656
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
delhi crime case man shoot at ring road

अज्ञात हमलावरों ने युवक की गोली मारकर की हत्या, पुलिस ने नहीं किया केस दर्ज

  • Updated on 8/21/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। जहांगीरपुरी इलाके में बीते शनिवार रात एक युवक को अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी थी, जिसकी मंगलवार रात उपचार के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उनसे जबर्दस्ती शव का अंतिम संस्कार कराया। इसके अलावा पुलिस पर परिवार वालों ने कई गंभीर आरोप लगाएं हैं। उनका कहना है कि नॄसग होम के खिलाफ  पुलिस कोई कानूनी कार्रवाई नहीं करने दे रही है, जिससे उनकी वहां के डॉक्टरों से मिलीभगत साफतौर पर दिखाई दे रही है। वह जल्द ही दिल्ली पुलिस आयुक्त से मिलकर उनसे न्याय की गुहार लगाएंगे। 

बदमाशों ने 3 को बनाया लूट का शिकार, धमकी देकर लूटे डेढ़ लाख

परिवार ने नर्सिंग होम  पर लगाया लापरवाही का आरोप
मृतक युवक की पहचान केशव (19) के रूप में हुई। वह स्वरूप नगर गली नंबर-15 में अपने माता पिता और छोटे भाई के साथ रहता था। उसके पिता की आजादपुर मंडी में दुकान थी। वह अपने दुकान पर जाकर अपने पिता की सहायता करता था। परिवार वालों ने बताया कि बीते शनिवार रात करीब 8:30 बजे वह घर से मंडी जाने के लिए हर रोज की तरह से निकला था। जहांगीरपुरी ई ब्लॉक में उसे बदमाशों ने गोली मार दी। गोली उसके पेट में लगी। केशव को खून से लथपथ हालत में पुलिस ने बाबू जगजीवन राम अस्पताल में भर्ती कराया। डॉक्टरों ने उसकी हालत गंभीर बताई। परिवार वालों ने मौके पर पहुंचकर केशव को शालीमार बाग स्थित मैक्स अस्पताल में ले गए। यहां पर उपचार के लिए 6 से साल लाख रुपए मांगे गए। इतने रुपए नहीं होने के कारण परिवार रोहिणी स्थित सेंटोम नॄसग होम लग गया। 

वाट्सएप पर दोस्ती के बाद नाबालिग से दुष्कर्म

नर्सिंग होम पर कानूनी कार्रवाई करने से रोक रही है पुलिस: परिजन
अस्पताल वालों ने एक लाख रुपए पहले ही रखवा लिए। रविवार सुबह डॉक्टरों ने उसका ऑपरेशन किया। डॉक्टरों ने उनको बताया कि केशव के पेट से गोली निकाल दी। उसके पैर की भी नस भी कटी हुई थी, जिसके लिए अब मैक्स अस्पताल से बड़े डॉक्टरों को बुलाया जाएगा। परिवार वालों ने बताया कि उस समय डॉक्टरों ने केशव की हालत सही बताई थी। रविवार शाम को अचानक केशव की हालत बिगडऩे लगी। यहां से परिवार वाले जीबी पंत अस्पताल ले गए। यहां पर डॉक्टरों ने अपनी मजबूरी बताकर उसको सफदरजंग अस्पताल भेज दिया। सफदरजंग अस्पताल में तुरंत डॉक्टरों ने केशव को भर्ती कर उपचार शुरू कर दिया। सोमवार शाम को केशव की हालत खराब होने लगी। मंगलवार रात को केशव की उपचार के दौरान मौत हो गई। डॉक्टरों ने जब केशव का पोस्टमार्टम किया तो उसमें पता चला कि केशव के पेट में गोली थी, जबकि सेंटोम नॄसग होम के डॉक्टरों ने बताया था कि ऑपरेशन कर गोली निकाल ली गई थी।

दिल्ली: मंडरा रहा बाढ़ का खतरा! 207.08 मीटर पर आज पहुंच जाएगी यमुना

रिंग रोड पर बवाल, घटना पर सवाल
रिंग रोड पर ठीक वजीरपुर डिपो के सामने अचानक शाम 6 बजे बवाल मच गया। सैकड़ों लोग अचानक रिंग रोड पर आ गए और ट्रैफिक जाम कर दिया। लोग काफी देर तक ट्रैफिक जाम में फंसे रहे। मौके पर पहुंचकर पुलिस  वालों ने हंगामा कर रही भीड़ को खदेड़ा। इस हंगामे के बीच यह पता नहीं चल पा रहा था कि असल में हुआ क्या है। तभी लोगों ने देखा कि जिन जिप्सियों से पुलिस पहुची थी। वे जिप्सियां एक एम्बुलेंस को घेर कर चल रही थी। बाद में जानकारी मिली कि ये जिप्सियां भलस्वा के रहने वाले किसी युवक के शव का पोस्टमार्टम करवाने के बाद उनकी  सुरक्षा में आगे पीछे चल रही थी। जो हंगामा कर रहे थे वे भी वहीं के बताए जा रहे थे। इस मामले में जिले के किसी भी अधिकारी के पास कोई सूचना नहीं थी। बड़ा सवाल यह है कि अगर भीड़ को वारदात के बारे में पता था, तो जिले में इतनी बड़ी वारदात हो जाने के बाद भी घटना की जानकारी लोकल पुलिस को क्यों नहीं थी।


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.