Tuesday, Jun 22, 2021
-->
delhi-high-court-commutes-death-sentence-to-life-imprisonment-in-jigisha-ghosh-murder-case

जिगिशा हत्याकांड: दिल्ली HC ने दो दोषियों की सजा में किया बदलाव, अब मिली उम्रकैद

  • Updated on 1/4/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली हाईकोर्ट ने 2009 के जिगिशा घोष हत्याकांड में दो दोषियों को मिली मौत की सजा को आज उम्रकैद में बदल दिया। न्यायमूर्ति एस. मुरलीधर और न्यायमूर्ति आई. एस. मेहता की पीठ ने इस मामले में निचली अदालत से तीसरे दोषी को मिली उम्रकैद की सजा को बरकरार रखा है।

AAP में घमासान: राजघाट पर कपिल का मौन प्रदर्शन, विश्वास समर्थक पहुंचे केजरीवाल के घर

पीठ ने कहा, ‘‘हम दो दोषियों की मौत की सजा को उम्रकैद में बदलते हैं।’’ निचली अदालत ने वर्ष 2016 में रवि कपूर और अमित शुक्ला को आईटी एग्जीक्यूटिव की हत्या तथा अन्य अपराधों में मौत की सजा सुनाई थी जबकि तीसरे दोषी बलजीत मलिक को जेल में उसके अच्छे आचरण के कारण मौत की सजा नहीं दी थी और उसे उम्रकैद की सजा सुनाई थी। निचली अदालत ने दो दोषियों को मौत की सजा सुनाते हुए कहा था कि 28 वर्षीय महिला की ‘‘सुनियोजित, अमानवीय और क्रूर तरीके से’’ हत्या की गई।

केजरीवाल ने विश्वास को दिया झटका, Tweet कर यूजर्स ने ऐसे ली चुटकी

पुलिस ने दावा किया था कि इस हत्या के पीछे का मकसद लूट था। शुक्ला और मलिक की दोषसिद्धि और सजा पर फैसले को रद्द करने की मांग करते हुए उनके वकील अमित कुमार ने हाईकोर्ट में दलील दी कि निचली अदालत ने उनके मुवक्किलों को बारे में जेल की पक्षपातपूर्ण रिपोर्ट के आधार पर मौत की सजा और उम्रकैद देते हुए गलती की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.