Saturday, Jan 22, 2022
-->
delhi ncr 20 crore fraud in the name of getting a flat woman director arrested kmbsnt

Delhi NCR: फ्लैट दिलाने के नाम पर महिला निदेशक ने पति संग मिलकर की 20 करोड़ की ठगी

  • Updated on 12/7/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की आर्थिक अपराध शाखा ने मुंबई में भगोड़ा घोषित की गई एक महिला निदेशक को गिरफ्तार (Arrest) कर लिया है। महिला पर आरोप है कि उसने सैकड़ों लोगों के साथ करीब 20 करोड़ रुपए से अधिक की ठगी की थी। महिला कई कंपनियों में निदेशक थी।

इस धोखाधड़ी का मुख्य साजिशकर्ता महिला का पति है,जोकि सीआरपीएफ  का पूर्व कर्मचारी है। महिला ने राज नगर एक्सटेंशन, गाजियाबाद में कई आवासीय योजनाओं में फ्लैट्स बेचने के नाम पर धोखाधड़ी की थी। हैरानी की बात यह है कि महिला को मुंबई पुलिस ने 12 से अधिक मामलों में दोषी मानते हुए भगोड़ा घोषित किया गया था। इसके बाद पीड़ितों ने इसकी शिकायत दर्ज करवाई थी।

पुलिस ने बताया कि सूचना के आधार पर महिला को मुंबई के अंधेरी वेस्ट से शनिवार को गिरफ्तार किया। फि लहाल महिला का पति प्रमोद कुमार सिंह फ रार चल रहा है। उसकी तलाश में पुलिस टीम छापेमारी कर रही है। 

रिश्वतखोरी में गिरफ्तार भाजपा पार्षद बोला- अब हमारे आय का स्त्रोत वेतन नहीं

सैकड़ों लोगों को महिला निदेशक ने पति संग मिलकर ठगा
आर्थिक अपराध शाखा के संयुक्त आयुक्त ओपी मिश्रा ने रविवार को बताया कि अपने घर का सपना देखने वाले कई लोगों ने शिकायत दर्ज करवाई थी। शिकायतकर्ताओं ने कहा कि उन्हें गाजियाबाद स्थित राज नगर एक्सटेंशन में अपने मकान का सपना दिखाया गया था। वैल्यू इंफ्राकोन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड  ने आवासीय प्रोजेक्ट बनाकर बेचने का भरोसा दिया था। उस दौरान जो बुकलेट दिखाए गए थे, उसे देखकर लग रहा था कि प्रोजेक्ट जल्दी ही शुरू होने वाला है, पर बाद में पता चला कि कंपनी की महिला निदेशक और उसके पति समेत अन्य निदेशकों ने लोगों के साथ धोखाधड़ी की है। सैकड़ों लोगों को करीब 20 करोड़ रुपए का चूना लगा चुके हैं। 

AAP ने भी किसानों के ‘भारत बंद’ का किया समर्थन, केजरीवाल के निशाने पर मोदी सरकार

आरोपी महिला करीब 12 कंपनियों में निदशक है
आरोपी महिला एक नहीं करीब 12 कंपनियों में निदशक है। मामला दर्ज कर जब पुलिस टीम ने जांच शुरू की तो पता चला कि गाजियाबाद विकास प्राधिरकण ने कोई प्लॉट ही महिला के कंपनी के नाम पर आवंटित किया है, जबकि कंपनी आम लोगों से फ र्जी आवासीय प्रोजेक्ट के नाम पर रुपए जुटा चुकी है। आगे की छानबीन में यह भी पता चला कि मोटी रकम एकत्रित करने के बाद आरोपी दफ्तर बंद कर फ रार हो चुके हैं। पुलिस ने बताया कि कंपनी का सभी बैंक खाता सीज कर दिया गया है। साथ ही छानबीन में पता चला कि महिला के खिलाफ  इससे पहले भी दिल्ली-एनसीआर के कई थानों में मामले दर्ज हैं।

ये भी पढ़ें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.