Tuesday, Oct 26, 2021
-->
delhi police transgers cases against yeti narasimhanand suraj pal amu to up haryana rkdsnt

दिल्ली पुलिस ने यति नरसिंहानंद, सूरज पाल अमू के खिलाफ मामलों से झाड़ा पल्ला!

  • Updated on 9/27/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली पुलिस ने अधिकार क्षेत्र से बाहर का मामला होने का हवाला देते हुए सोमवार को यहां एक अदालत में कहा कि उसने करणी सेना प्रमुख और डासना देवी मंदिर के पुजारी के खिलाफ कथित सांप्रदायिक टिप्पणी की शिकायतों को 'आवश्यक कानूनी कार्रवाई' के लिए हरियाणा और उत्तर प्रदेश के थानों में स्थानांतरित कर दिया है। 

जाति आधारित जनगणना को लेकर सोरेन के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल की अमित शाह से मिला 

पुलिस ने शिकायतों को उस इलाके के थानों में स्थानांतरित कर दिया जहां मुसलमानों के खिलाफ कथित भेदभावपूर्ण टिप्पणी की गई थी। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट रजत गोयल के समक्ष दायर कार्रवाई रिपोर्ट (एटीआर) में यह बात कही गई है। यह कार्रवाई रिपोर्ट उस याचिका पर दायर की गयी है जिसमें सूरज पाल अमू और यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का अनुरोध किया गया है। 

विपक्ष ने किया साफ- ‘चुनावी मंत्रिमंडल विस्तार’ से नहीं होगा BJP का भला

अदालत के समक्ष दाखिल याचिका में शिकायतकर्ता ने कहा था कि अमू ने मई और जुलाई में हरियाणा में हुई दो महापंचायतों में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के इरादे से कथित तौर पर भड़काऊ और विभाजनकारी टिप्पणी की थी। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि सरस्वती ने उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान मुस्लिम समुदाय के खिलाफ कथित रूप से भड़काऊ बयान दिया तथा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और जामिया मिलिया इस्लामिया का अपमान किया, ताकि उन संस्थानों में पढऩे वाले मुसलमानों की धार्मिक भावनाओं को आहत किया जा सके।

अमेरिका से लौटते ही काम पर जुटे पीएम मोदी, सेंट्रल विस्टा के निर्माण का लिया जायजा 

दिल्ली के जामिया नगर थाने के एक निरीक्षक ने अदालत से कहा कि चूंकि अमू ने कथित भाषण हरियाणा में दिया था इसलिए Þआवश्यक कानूनी कार्रवाई के लिए शिकायत को हरियाणा के संबंधित थानों में स्थानांतरित कर दिया गया है। पुलिस ने कहा कि जैसा कि दर्ज शिकायत में, स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया है कि भड़काऊ टिप्पणी की घटना उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के अधिकार क्षेत्र में हुई थी। इसलिए आवश्यक कानूनी कार्रवाई के लिए शिकायत को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में संबंधित थाने में स्थानांतरित कर दिया गया है।

CJI रमण ने महिलाओं को न्यायपालिका में 50 फीसदी आरक्षण पर दिया जोर

comments

.
.
.
.
.