Saturday, Jan 22, 2022
-->
delhi riot: tahir called umar khalid, said - many houses burnt musrnt

दिल्ली दंगाः ताहिर हुसैन ने फोन कर उमर खालिद को कहा था- जला दिए कई घर

  • Updated on 1/11/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सीएए के विरोध में पूर्वी दिल्ली में हुए दंगे से संबंधित आरोपपत्र में उमर खालिद के एक वीडियो का जिक्र है। इसके जरिये बताया गया है कि उमर खालिद साजिश को लेकर पूरी तरह आश्वस्त था कि सरकार झुकेगी और सीएए को वापस ले लिया जाएगा।

उसका कहना था कि ऐसा होने के बाद राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर, एनपीआर को खत्म कराने की मुहिम छेड़ी जाएगी। आरोपपत्र में बताया गया है कि ताहिर और उमर खालिद को करीब लाने में खालिद सैफी ने अहम भूमिका निभाई। आरोपपत्र में तीनों की काल डिटेल रिकार्ड को आधार बनाकर इनके बीच संपर्क की कडिय़ों को जोड़ा गया है।

दिल्ली दंगे: कोर्ट बोली- उमर खालिद, ताहिर हुसैन व अन्य ने प्रथमदृष्ट्या मिलकर रचे षड्यंत्र

बता दें कि दिल्ली दंगे में नाम आने के बाद आम आदमी पार्टी ने ताहिर हुसैन को निलंबित कर दिया था। उमर खालिद साजिश को लेकर पूरी तरह आश्वस्त था कि सरकार झुकेगी और सीएए को वापस ले लिया जाएगा। ताहिर हुसैन और जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र उमर खालिद वाट्सएप ग्रुप यूनाइटेड अगेंस्ट हेट के जरिये संपर्क में आए थे। खजूरी खास इलाके में हुई हिंसा के मामले में उमर खालिद के खिलाफ  दायर पूरक आरोपपत्र से यह बात सामने आई है।

ताहिर की जमानत याचिक खारिज, जज बोले- दंगे भड़काने के लिए किया राजनैतिक दबदबे का इस्तेमाल

आरोपपत्र में साजिश के सिलसिले को विस्तार से बयां किया गया है। इसके मुताबिक उमर खालिद के भाषण का ताहिर हुसैन प्रशंसक था। वह उसके भाषणों को नियमित रूप से सुनता था।

उमर खालिद ने ट्रंप दौरे के दौरान रची थी दंगे कराने की साजिश : दिल्ली पुलिस

शाहीनबाग में मुलाकात के दौरान दंगे की साजिश रचने के बाद उमर खालिद ने अपने मंसूबों को अंजाम देने के लिए ताहिर हुसैन को टोकन मनी के रूप में 25 हजार रुपए दिए थे। यह भी बताया गया है कि गत वर्ष 24 फरवरी को जब दंगे शुरू हुए तो ताहिर ने उमर खालिद को फोन पर बताया था कि आगाज कर दिया गया है। कई घर जला दिए हैं। 

दिल्ली दंगा: पुलिस का दावा- हिंसा और प्रदर्शनों में ISIS ने की मदद

आरोपपत्र में बताया है कि उमर खालिद को जब नागरिकता संशोधन कानून, सीएए के विरोध में जंतर-मंतर पर धरना करने का कोई असर होता नहीं दिखा, तो उसने पूरी दिल्ली में जगह-जगह प्रदर्शन कराने का खाका खींचा। गत वर्ष आठ जनवरी को शाहीन बाग में ताहिर हुसैन के साथ बैठक करने के बाद पहले धरना- प्रदर्शन का दायरा बढ़ाया गया। कई जगह सड़कें घेरी गईं। आरोपपत्र के मुताबिक उमर खालिद ने ताहिर से कहा था कि सड़क जाम होने से जब लोगों को परेशानी होगीए फिर लोग प्रदर्शनकारियों से उलझेंगे। उसी दौरान फसाद को बढ़ाकर दंगे को अंजाम दिया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.