Tuesday, Dec 01, 2020

Live Updates: Unlock 7- Day 1

Last Updated: Tue Dec 01 2020 08:34 AM

corona virus

Total Cases

9,463,254

Recovered

8,888,595

Deaths

137,659

  • INDIA9,463,254
  • MAHARASTRA1,823,896
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA883,899
  • TAMIL NADU780,505
  • KERALA599,601
  • NEW DELHI566,648
  • UTTAR PRADESH543,888
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA318,725
  • TELANGANA268,418
  • RAJASTHAN262,805
  • BIHAR235,616
  • CHHATTISGARH234,725
  • HARYANA232,522
  • ASSAM212,483
  • GUJARAT206,714
  • MADHYA PRADESH203,231
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB151,538
  • JAMMU & KASHMIR109,383
  • JHARKHAND104,940
  • UTTARAKHAND74,340
  • GOA45,389
  • HIMACHAL PRADESH38,977
  • PUDUCHERRY36,000
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,967
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,806
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,325
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
delhi riots court acquits accused questions fired on delhi police rkdsnt

दिल्ली दंगे में कोर्ट ने आरोपी को किया बरी, पुलिस पर दागे सवाल

  • Updated on 10/9/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली की अदालत ने फरवरी में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों (Delhi riots) से संबंधित मामले में शुक्रवार को एक आरोपी को जमानत देते हुए कहा कि घटना को लेकर दो सप्ताह तक गवाहों की खामोशी से उनकी विश्वसनीयता पर‘‘गंभीर संदेह‘’पैदा होता है। अदालत ने कहा कि गवाहों ने घटना के दो सप्ताह बाद पुलिस में अपने बयान दर्ज कराए। 

पटना एअरपोर्ट में एंट्री से मना करने पर पासवन की बेटी ने किया हंगामा

अदालत ने कहा कि जब दो पुलिस सिपाही प्रत्यक्षदर्शी थे और उन्होंने आरोपी को दंगा करते देखा था तो उन्होंने उस दिन इसकी शिकायत क्यों नहीं की और अपने वरिष्ठों को इस बारे में क्यों नहीं बताया? अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश विनोद यादव ने 25 फरवरी को दयालपुर इलाके में दंगाई भीड़ द्वारा एक दुकान में लूटपाट और तोडफ़ोड़ किये जाने के मामले में आरोपी इरशाद अहमद को 20, 000 रुपये के मुचलके और इतनी ही जमानत राशि पर जमानत दे दी। शिकायतकर्ता जीशान के अनुसार उसे लगभग 20 लाख रुपये का नुकसान हुआ था। 

एल्गार मामला: मानवाधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी को न्यायिक हिरासत में भेजा

अदालत ने आठ अक्टूबर को पारित अपने आदेश में कहा कि प्राथमिकी में भी अहमद का नाम नहीं था और इस मामले में उसपर कोई विशेष आरोप भी नहीं लगाए गए। अदालत ने कहा,‘‘इस मामले में कांस्टेबल विक्रांत और कांस्टेबल पवन (दोनों प्रत्यक्षदर्शी हैं और घटना के समय अपराध स्थल पर मौजूद थे) के बयानों के अनुसार उन्होंने दंगा कर रहे अहमद और सह-आरोपियों को पहचान लिया था। हालांकि उन्होंने 25 फरवरी 2020 को घटना के दिन कोई शिकायत नहीं की और न ही अपने वरिष्ठ अधिकारियों को इसके बारे में बताया।‘‘ 

नीरव मोदी की रिमांड 3 नवंबर को होने वाली अगली प्रत्यर्पण सुनवाई तक बढ़ी

आदेश में कहा गया है कि आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 161 (पुलिस से पूछताछ) के तहत बयान दर्ज कराए जाने तक वे घटना को लेकर पूरी तरह खामोश रहे और छह मार्च, 2020 जांच अधिकारी के समक्ष बयान दर्ज कराते समय अपनी चुप्पी तोड़ी। इससे गवाहों की विश्वसनीयता पर संदेह पैदा होता है।‘‘ अदालत ने यह भी कहा अहमद घटना के सीटीटीवी फुटेज या वायरल वीडियो में भी कहीं दिखाई नहीं दिया।  

सुप्रीम कोर्ट का CBI को निर्देश- अदालतों के निष्कर्षो पर सवाल उठाने के लिए बहुत ठोस आधार दे

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.