Wednesday, Oct 27, 2021
-->
delhi-riots-delhi-police-objected-to-tahir-hussain-plea-challenging-uapa-provisions-rkdsnt

दिल्ली दंगे: ताहिर हुसैन की याचिका पर दिल्ली पुलिस ने जताई आपत्ति

  • Updated on 9/28/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली पुलिस ने दिल्ली उच्च न्यायालय से कहा कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली दंगों के मामले में आम आदमी पार्टी के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन की उनके खिलाफ यूएपीए प्रावधानों को लागू करने को चुनौती देने वाली याचिका सुनवाई को बाधित करने और उसे रोकने की कोशिश है। हुसैन की याचिका के जवाब में पुलिस ने कहा कि गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत दर्ज मामले में उन पर मुकदमा चलाने की मंजूरी देने पर‘‘किसी भी तरह की ङ्क्षचता‘’पर केवल निचली अदालत द्वारा विचार किया जा सकता है। 

दिल्ली दंगा मामले में पुलिस को फटकार, कोर्ट ने कहा- स्थिति दुर्भाग्यपूर्ण है

जस्टिस मुक्ता गुप्ता की एकल पीठ ने मंगलवार को निर्देश दिया कि दिल्ली पुलिस के जवाब को रिकॉर्ड में लाया जाए और मामले की अगली सुनवाई 29 नवंबर के लिए सूचीबद्ध की। विशेष प्रकोष्ठ के पुलिस उपायुक्त द्वारा दाखिल हलफनामे में कहा गया,‘’यह स्पष्ट है कि याचिका और कुछ नहीं बल्कि मुकदमे को बाधित करने और उसे रोकने का प्रयास है। इसलिए, प्रावधान लागू करने संबंधी ङ्क्षचता पर केवल निचली अदालत विचार कर सकती है और यह रिट अदालत के न्यायिक दायरे में नहीं आता है।‘‘ 

कन्हैया कुमार ने बताई कांग्रेस में शामिल होने की वजह, RSS पर साधा निशाना

वकीलों अमित महाजन और रजत नायर के माध्यम से दायर हलफनामे में दावा किया गया कि याचिका उच्च न्यायालय के समक्ष सुनवाई योग्य नहीं है और यह खारिज करने योग्य है। पुलिस ने यह भी कहा है कि निचली अदालत ने अपराध का 17 सितंबर, 2020 को संज्ञान लिया था लेकिन याचिकाकर्ता ने इसी चुनौती नहीं दी है। इस साल 23 जुलाई को अदालत ने हुसैन की याचिका पर पुलिस से जवाब मांगा था । इस याचिका में बड़े स्तर पर कथित साजिश रचने संबंधी मामले के आरोपपत्र में उसके खिलाफ लगाए गए आतंकी गतिविधियों से संबंधित यूएपीए प्रावधानों को रद्द करने का अनुरोध किया गया है। 

कांग्रेस में शामिल कन्हैया कुमार को लेकर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की आई पहली प्रतिक्रिया 

याचिका के अनुसार आरोप पत्र में कहा गया है कि इसी साजिश की वजह से उत्तर-पूर्वी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून विरोधी प्रदर्शनों के दौरान पिछले साल फरवरी में दंगे हुए थे। याचिका में यूएपीए क तहत उनके खिलाफ दर्ज मामले में मुकदमा चलाने की अनुमति देने को भी चुनौती दी गयी है। हुसैन पर पिछले साल हुये दंगों के सिलसिले में पुलिस द्वारा दर्ज अनक मामलों में मुकदमे का सामना कर रहे हैं।

नए कृषि कानूनों ने किसान का अदालत जाने का मौलिक अधिकार छीना : दिग्विजय सिंह 

 

 

 

 

comments

.
.
.
.
.