Monday, Mar 30, 2020
Delhi riots How weapons including war slingshot catapult used in North East Delhi riots

दिल्ली दंगों में इस्तेमाल हुए युद्धक गुलेल समेत ऐसे-ऐसे हथियार

  • Updated on 2/29/2020

पूर्वी दिल्ली/पंकज वशिष्ठ। उत्तर पूर्वी दिल्ली दंगे में गुलेल वाली साजिश का बड़ा खुलासा हुआ है। शिव विहार इलाके में एक स्कूल की छत पर बहुत बड़ी गुलेल मिली है। इस गुलेल के जरिए छत से पेट्रोल बम और बड़े-बड़े पत्थर बरसाए गए। छत पर लोहे के स्टैंड में ये गुलेल बनाई गई थी। यह गुलेल हिंसा भड़कने के बाद तैयार नहीं हुई बल्कि कई दिन पहले पूरी सुनियोजित योजना के साथ दंगे के मास्टरमाइंड ने लोहे के एंगल को वेल्डिंग करके गुलेल बनाई, फिर उसे स्कूल की छत पर फिट कराया ताकि ज्यादा से ज्यादा नुकसान किया जा सके। 

कन्हैया राजद्रोह मामले को लेकर #BJP ने फिर किया केजरीवाल पर हमला

सुनियोजित दंगे के और मिले प्रमाण
पुलिस टीम ने आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन के घर और फैक्ट्री की तलाशी ली, तो सैकड़ों पेट्रोल बम समेत तेजाब के पाउच, पत्थर फेंकने के लिए छोटी-बड़ी गुलेल समेत टनों की मात्रा में पत्थर मिले हैं।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट : हत्यारे ने अंकित शर्मा पर चाकू से किए थे 400 से ज्यादा वार

पुलिस जांच टीम जब शिव विहार के स्कूल की छत पर पहुंची तो पता चला कि वहां जो पत्थर पड़े थे उन्हें हाल ही में तोड़ा गया था। छत पर पेट्रोल बम, पेट्रोल और एसिड भी मिला। जिसे देखकर यह साफ  अंदाजा लगाया जा सकता है कि दंगाई प्लानिंग के साथ यहां आए थे और गुलेल के जरिए आसपास रहने वाले लोगों के ऊपर पेट्रोल बम और पत्थर फेंके।

कन्हैया कुमार ने राजद्रोह मामले की मंजूरी के लिए केजरीवाल सरकार का किया शुक्रिया

रेहड़ियों, छतों, गार्टर पर बना रखे थे गुलेल
पुलिस टीम को हिंसा के दौरान इस्तेमाल की गई तीन तरह की गुलेल मिली हैं। एक गुलेल को लोहे के एंगल से वेल्डिंग करके बनाया गया था। दूसरी चलायमान युद्धक गुलेल मिली, जिसे रिक्शा में फिट किया गया था। व हाथ वाली गुलेल भी मिली जिनका उपयोग कंचों से हमला करने के लिए किए जाने की बात सामने आई है।

दिल्ली हिंसा मामलों की सुनवाई करने वाले जस्टिस मुरलीधर का तबादला, उठे सवाल

दंगाइयों ने सिर्फ स्कूल की छत से ही गुलेल का इस्तेमाल नहीं किया। स्कूल की छत पर ही नहीं बल्कि दंगाइयों ने शिव विहार इलाके में एक रिक्शे में भी लोहे के एंगल की वेल्डिंग करके चलायमान गुलेल तैयार की थी, जिसे कहीं भी ले जाया जा सकता है। यह गुलेल शिव विहार तिराहे के पास मिली है। 

शिवसेना ने पूछा- जब दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो अमित शाह कहां थे?

comments

.
.
.
.
.