Wednesday, Apr 01, 2020
delhi riots ib officer ankit sharma killed by target suspicion aap councilor tahir hussain

दिल्ली हिंसाः #AAP पार्षद ताहिर हुसैन पर हत्या, आगजनी और हिंसा फैलाने का केस दर्ज

  • Updated on 2/27/2020

नई दिल्ली/महेश चौहान। खुफिया एजेंसी (आईबी- भारत सरकार) में कार्यरत हेडकांस्टेबल अंकित शर्मा (Ankit Sharma) भी दंगे की भेंट चढ़ गया। इस बीच अंकित शर्मा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई है। जिसमें पोस्टमार्टम करने वाले डाक्टरों ने कहा है कि उन्होंने अपने जीवन में किसी मनुष्य के शरीर पर चाकुओं के इतने जख्म पहले कभी नहीं देखे थे। यह अनगिनत निशान, जिन्हें गिनना तक मुश्किल है।

ताहिर हुसैन के बचाव में उतरे AAP नेता तो कपिल मिश्रा ने कहा- बचाने की हो रही कोशिश

वहीं ताहिर हुसैन के घर के पास से एक लड़की की लाश मिली है। जिसमें उसके जले हुए कपड़े, बैग और अंडरगारमेंट्स भी है।  माना जा रहा है कि लड़की को घसीटकर ताहिर के घर में बेरहमी से कल्त किया गया है। इस बाबत ताहिर हुसैन के खिलाफ  IPC की धारा 302 के तहत दयालपुर पुलिस स्टेशन में FIR दर्ज की गई है।

AAP पार्षद ताहिर हुसैन के घर की छत पर पत्थर से लेकर पेट्रोल बम का जखीरा, देखें Pics...

बता दें कि मंगलवार को रोजाना की तरह अंकित अपनी नौकरी पर निकला था, लेकिन शाम को घर नहीं पहुंचा। मृतक अंकित की मां ने खजूरी क्षेत्र के AAP पार्षद मोहम्मद ताहिर हुसैन (Mohammad Tahir Hussain) पर हत्या कराने का आरोप लगाया है।
 

ताहिर हुसैन पर हत्या के आरोप पर संजय सिंह ने कहा- दोषी हैं तो कार्रवाई हो

इस संबंध में पुलिस ने ताहिर हुसैन और अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या, आगजनी और हिंसा फैलाने का केस दर्ज कर लिया है। मिल रही जानकारी के अनुसार ताहिर के घर को सुरक्षा एजेंसियों ने सील कर दिया है ताकि सबूतों की फॉरेंसिक जांच की जा सके। हालाकि हुसैन का कहना है कि जिस वक्त यह घटना हुई वह घर पर नहीं था।

दिल्ली हिंसा मामलों की सुनवाई करने वाले जस्टिस मुरलीधर का तबादला, उठे सवाल

दरअरल, चूंकि जिस जगह अंकित शर्मा का घर था, वहां दंगे चल रहे थे, इसलिए परिजनों को लगा कि वह ऑफिस में रुक गया होगा, लेकिन जब फोन बंद मिला, अता-पता नहीं चला तो परिजनों को बेचैनी हुई और ये बेचैनी बुधवार दोपहर तक रही।

दिल्ली में हिंसा प्रभावित इलाके चांद बाग से आईबी ऑफिसर का शव बरामद

इसी बीच खबर आई कि जिस अंकित को परिजन खोज रहे हैं, उसकी चाकू  से गुदी हुई लाश खजूरी खास के नाले में पड़ी थी। दंगाइयों ने निर्ममता से हत्या कर उसके शव को नाले में फेंक दिया था। प्रारंभिक जांच के तहत अंकित शर्मा की बीती रात दंगाइयों ने पीट-पीटकर निर्मम हत्या कर दी थी। शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया। 

आईबी में था और सूचना देने के अंदेशे से चढ़ गया भेंट?
अंकित शर्मा आईबी में था और इलाके के लोग उसे जानते थे। चूंकि उस इलाके में बीते तीन दिनों से उपद्रव चल रहा था, शायद इसी के चलते उपद्रवियों को लगा कि अंकित उनकी सभी जानकारियां पुलिस तक पहुंचा रहा है, जिसके चलते उसकी हत्या की गई। इस संबंध में अंकित शर्मा के भाई अंकुर शर्मा ने बताया कि परिवार में मां, पिता रविन्द्र शर्मा और वह दो भाई थे। जिसमें से उसके भाई की दंगाइयों ने हत्या कर दी है। 

शिवसेना ने दिल्ली हिंसा की तुलना सिख विरोधी दंगों से की, निशाने पर मोदी सरकार

उसकी मां की तबीयत काफी ज्यादा खराब हो गई है। उनको नहीं समझ आ रहा है कि अंकित की किस से दुश्मनी थी कि उसकी इस तरह कि निर्मम हत्या कर दी और लाश को नाले में ठिकाने लगा दी। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या की उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा तय समयसीमा में दी जानी चाहिए।

कह कर निकला था, शाम को आऊंगा: मां
मंगलवार सुबह वह ड्यूटी के लिए निकला था, लेकिन शाम करीब नौ बजे तक जब वह वापस घर नहीं आया। उसके फोन पर संपर्क करने की कोशिश की। संपर्क नहीं होने पर किसी अनहोनी को देखते हुए उन्होंने जीटीबी अस्पताल जाकर घायलों को देखकर उसको तलाशने की कोशिश की। डॉक्टरों से भी संपर्क कर उस दिन आने वाले मरीजों के लिस्ट को देखा। लेकिन अंकित का कुछ पता नहीं चला। पूरी रात वह अपने तौर पर अंकित को तलाशने की कोशिश करते रहे। सुबह आठ बजे पीसीआर को मामले की जानकारी दी। इस बीच कुछ लोगों से पता चला कि चांद बाग पुलिया स्थित नाले के पास अंकित को बीती रात देखा गया था। जिनको कुछ लोगों ने जबरन पकड़ लिया था। जो एक मकान में ले गए थे।

दिल्ली हिंसा को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को लिया आड़े हाथ

कौन हैं ताहिर हुसैन? 
दिल्ली दंगों में आम आदमी पार्टी के पार्षद मोहम्मद ताहिर हुसैन का रोल भी संदिग्ध हो गया है। हुसैन और उनके समर्थकों पर इंटेलिजेंस ब्यूरो यानि आईबी के ऑफिसर अंकित शर्मा की हत्या के आरोप लगे हैं। पुलिस अब उन्हें पूछताछ के लिए तलब कर रही है। ताहिर हुसैन ने भी वीडियो जारी कर खुद को पाक-साफ करार करने की कोशिश की है। ताहिर दिल्ली की सियासत में चर्चित चेहरा नहीं हैं। लेकिन उत्तर पूर्वी दिल्ली में उनका अच्छा वोटबैंक है। शाहदरा, नेहरू नगर, चांदबाग के इलाके में ताहिर की खूब चलती है। मुसलमानों के बीच वह अच्छी पैठ रखते हैं।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.