Friday, Jan 24, 2020
fake call center New Ashok Nagar delhi crime

फर्जी कॉल सेंटर बनाकर सैकड़ों से लाखों की ठगी, तलाश में जुटी पुलिस

  • Updated on 11/29/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पुलिस (Police) की साइबर क्राइम टीम (cyber crime team) ने नोएडा के सेक्टर-6 (Noida sec-6) और सेक्टर-7 में अवैध रूप से चल रहे कॉल सेंटरों पर छापेमारी कर 45 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें यहां काम करने वाली 23 महिलाएं और 22 पुरुष हैं।

राजधानी में कांट्रैक्ट पर किलिंग ही नहीं चोरी व लूट भी होती है, जाने कैसे होती है भर्ती

देश के दूसरे राज्यों में लोगों को ठगने का काम भी करते थे आरोपी
दोनों कॉल सेंटरों का मालिक दिल्ली के न्यू अशोक नगर (New Ashok Nagar) निवासी दिलीप सरोज और नन्दन नामक एक व्यक्ति ठगी की घटनाओं को अंजाम देने के लिए लोगों का डाटा उपलब्ध कराते थे। ये दोनों आरोपी फरार है। पुलिस इनकी तलाश कर रही हैं। पुलिस ने मौके से 16 वॉकी फोन, 29 की-पैड मोबाइल और 2 कम्प्यूटर बरामद किए हैं। आरोपी देश के दूसरे राज्यों में लोगों को ठगने का काम करते थे। 

खेती छोड़कर किसान बना हथियार तस्कर, स्पेशल टीम ने किया गिरफ्तार

भारी छूट के ऑफर की आड़ में लोगों से करते थे ठगी
पुलिस ने गिरफ्तार सभी आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर कोर्ट में पेश किया जहां से इन्हें जेल भेज दिया गया। मामला सेक्टर-20 कोतवाली क्षेत्र का है। एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि साइबर क्राइम टीम को जेवर के एक पीड़ित ने इस संबंध में शिकायत की थी। जांच में पता चला कि ऑनलाइन शॅपिंग साइटों फ्लिपकार्ट, मिन्त्रा तथा अन्य की आड़ में ग्राहकों को ईनाम में एलईडी, लक्की ड्रा तथा ऑनलाइन खरीदारी में भारी छूट के ऑफर की आड़ में लोगों से ठगी की घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है। 

सेना में भर्ती कराने के नाम पर धोखाधड़ी, 3 लोग गिरफ्तार

शॉपिंग साइटों को लालच देकर अपने जाल में फंसाते थे
मामले में जानकारी एकत्रित कर साइबर सेल टीम और स्थानीय कोतवाली पुलिस ने बीते बुधवार देर शाम जी-13 टॉप फ्लोर सेक्टर-6 और डी-156 टॉप फ्लोर सेक्टर-7 पर छापेमारी की। उन्होंने बताया कि आरोपी अपनी एक ईमेल आईडी बनाकर उस पर नामीगिरामी ऑनलाइन शॉपिंग साइटों को लालच देकर अपने जाल में फंसाते थे।

पुलिस जांच में जुटी
बाद में इनसे कैश बैक, सिक्योरिटी अमाउण्ट, डिलीवरी चार्ज और रजिस्ट्रेशन के नाम पर विभिन्न फर्जी बैंक खातो और फोन पे, गुगल पे आदि युपीआई के फर्जी खातो मे रकम ट्रांसफर करा लेते थे। एसएपी के अनुसार पुलिस जांच कर रही है कि आरोपियों को इन ऑनलाइन शॉपिंग कम्पनियों के ग्राहकों के डाटा कहां से मिलते थे। 

comments

.
.
.
.
.