Tuesday, Oct 04, 2022
-->
fake-officer-showed-the-mirror-to-the-security-daylight-robbery-near-the-police-post

फर्जी अफसर ने सुरक्षा व्यवस्था को दिखाया आईना, पुलिस चौकी के पास दिनदहाड़े की लूट

  • Updated on 7/22/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। शातिर अपराधी ने सीबीआई अफसर बनकर वृद्ध को लूट लिया। पुलिस चौकी और बैंक के नजदीक दिनदहाड़े यह वारदात होने से सुरक्षा व्यवस्था की खामियां उजागर हो गई हैं। शिकायत मिलने पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। घटनास्थल के आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला जा रहा है। 

कुछ दिन पहले भी लुटेरों ने आभूषण विक्रेता से लूटपाट करने के लिए इसी प्रकार का तरीका अपनाया था। इसके बावजूद पुलिस की नींद नहीं टूट सकी। गाजियाबाद के घंटाघर कोतवाली क्षेत्र में यह घटनाक्रम प्रकाश में आया है। पुलिस के मुताबिक गोविंदपुरम की गौर होम्स सोसाइटी में सुबोध कुमार अग्रवाल (68) सपरिवार रहते हैं। 

वह बुधवार की दोपहर नवयुग मार्केट में खरीदारी करने आए थे। बाइक सवार बदमाश द्वारा उन पर नजर रखे जाने से वह अंजान थे। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) की ब्रांच के सामने अग्रवाल ने कार खड़ी कर रखी थी। खरीदारी करने के उपरांत वह कार की ओर जाने लगे। इस बीच बाइक सवार युवक ने उन्हें अचानक रोक लिया। 

युवक ने अपना परिचय सीबीआई अफसर के तौर पर दिया। कथित अफसर ने नवयुग मार्केट में लूट होने की बात कर वृद्ध सुबोध कुमार को सलाह दी कि वह अंगूठियां उतार कर जेब में रख लें। अंगूठी पहन कर जाना खतरे से खाली नहीं है। आरोपी की बात पर भरोसा कर वह दोनों अंगूठी निकाल कर रूमाल में रखने लगे। 

ऐसे में मौका पाकर बदमाश ने अंगूठी लूट लीं। पीड़ित द्वारा शोर मचाने पर राहगीर आ पहुंचे। माजरा समझ में आने पर कुछ राहगीरों ने फरार बदमाश का पीछा भी किया, मगर वह हाथ नहीं आ पाया। उधर, कोतवाल अमित खारी ने बताया कि शिकायत के आधार पर रिपोर्ट दर्ज की गई है। 

घटनास्थल के आस-पास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज की जांच की जा रही है। बता दें कि कुछ दिन पहले नवयुग मार्केट में बदमाशों ने गौतबुद्ध नगर के आभूषण विक्रेता को लूट लिया था। उस समय बदमाशों ने पुलिस अधिकारी की भूमिका निभाई थी।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.