Tuesday, Oct 26, 2021
-->
false-case-filed-against-brother-court-imposed-fine-of-2-lakhs

भाई पर करवाया झूठा मुकदमा दर्ज, अदालत ने 2 लाख जुर्माना लगाया

  • Updated on 10/13/2021

भाई पर करवाया झूठा मुकदमा दर्ज, अदालत ने 2 लाख जुर्माना लगाया
 

नई दिल्ली, टीम डिजिटल। तीस हजारी स्थित अतिरिक्त वरिष्ठ दीवानी न्यायाधीश किशोर कुमार की अदालत ने अपने भाई के खिलाफ  दायर संपत्ति विवाद के मुकदमा को झूठा व बेबुनियाद पाए जाने पर एक शख्स पर दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। अदालत ने कहा कि अगर इस तरह के दावे दायर करके न्याय व्यवस्था को दूषित करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। अदालत ने  झूठा मुकदमा दर्ज करवाने वाले शख्स को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया कि क्यों ना उसके खिलाफ  शिकायत दर्ज की जाए। 

आरोपी ने अपने भाई पर मुकदमा दर्ज कर दावा किया था कि 1989 में उसके पिता के निधन के बाद कानूनी वारिसों में मौखिक रूप से संपत्ति का बंटवारा हुआ था। दिल्ली के मोती नगर इलाके में एक संपत्ति उसकी मां के नाम स्थानांतरित हुई थी और यह सहमति बनी थी कि उनके निधन के बाद यह संपत्ति उसके नाम पर हो जाएगी। उसने अपने भाई पर आरोप लगाया कि भाई ने मां के निधन के बाद 2017 में संपत्ति खाली करने से इनकार कर दिया। 

एक साल बाद उसे मालूम चला कि उसका भाई दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड के अधिकारियों की मिलीभगत से फर्जी कागज बनवा कर संपत्ति को अपने नाम कराने की कोशिश कर रहा है।

व्यक्ति के भाई ने मुकदमे के जवाब में कहा कि उनकी मां ने दो सितंबर 2000 को यह संपत्ति उसे बेच दी थी और 2005 में उनका निधन हो गया। उसने आरोप लगाया कि उसके भाई ने झूठी कहानी बना कर मुकदमा दायर किया  है। अदालत ने मुकदमे का फैसला प्रतिवादी उसके भाई के हक में दिया है।
अदालत की सख्त टिप्पणी
अदालत ने मामले में सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि झूठे दावे दाखिल करने का मकसद कानून का दुर्उपयोग है, और कोई भी अदालत ऐसे कदाचार को नजरअंदाज नहीं कर सकती है, 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.