Monday, Aug 08, 2022
-->
film-of-south-both-the-policemen-got-the-idea-of-kidnapping-to-become-immortal-soon

साउथ की फिल्म देख कर आया था दोनों पुलिसकर्मियों को किडनैपिंग का जल्द अमर बनने का आइडिया

  • Updated on 9/7/2021

नई दिल्ली। टीम डिजिटल।सेंट्रल जिला पुलिस के गिरफ्त में आए दोनों कांस्टेबलों ने खुलासा करते हुए कहा है कि उन्हें जल्द पैसा कमाने के लिए किडनैपिंग का आईडिया साउथ फिल्म देखकर आया था। हालांकि उन्होंने यह भी बताया है कि इस गैंग में कुछ बाहर के लोगों को भी शामिल करने वाले थे जिसकी मदद से है वह कई किडनैपिंग की वारदातों को अंजाम देने वाले थे। पकड़े गए आरोपियों की पहचान सुमित एवं प्रमोद के तौर पर हुई है। इस घटना में एक अन्य आरोपी फरार चल रहा है। जिसकी तलाश में डिस्ट्रिक्ट की चार टीमें लगाई गई हैं जोकि अलग-अलग जगह पर दबिश डाल रही है। फिलहाल दोनों कांस्टेबल को निलम्बित भी कर दिया गया है।
डीसीपी जसमीत सिंह के मुताबिक,टैंक रोड इलाके में अशोक कुमार जींस पैंट का व्यापार करता है जबकि वह 27 अगस्तको अपनी दुकान पर बैठे थे तभी कांस्टेबल सुमित, प्रमोद और मंजीत वहां आए और खुद को ट्रेडमार्क विभाग का कर्मचारी बताया। तीनों ने कहा कि अशोक नामी कम्पनी के नाम पर फर्जी उत्पाद बना रहे हैं। उन्होंने अशोक को जबरन कार में बैठा लिया और इलाके में घुमाने लगे। उन्होंने व्यवसायी से पांच लाख रुपये मांगे लेकिन बाद में सौदा तीन लाख रुपये में तय हुआ। पीड़ित ने जब तीन लाख रुपये दिए तब जाकर उसका पीछा छूटा। इसके बाद पीड़ित ने प्रसाद नगर थाने में शिकायत दी जिसके आधार पर किडनैपिंग, फिरौती वसूलने आदि की धारा में केस कर लिया गया। इसके बाद तीन सितम्बर को सचिन नाम के मोबाइल कारोबारी का अपहरण कर लिया। इस बाबत दुकान में मौजूद लोगों ने पीसीआर को फोन कर सूचना दी। तीनों कांस्टेबल ने सचिन से चार लाख रुपये वसूले थे। पीड़ित की शिकायत पर डीबीजी रोड थाने में फिरौती केलिए अपहरण की धारा में एफआईआर दर्ज कर ली गई।
जिले की टीम ने टेक्निकल सर्विलांस के आधार पर जांच शुरू की। टीम को सीसीटीवी कैमरे की फुटेज के आधार पर आरोपियों की पहचान की और फिर प्रमोद और सुमित को गिरफ्तार कर लिया। तीनों दिल्ली आर्म्ड पुलिस की फर्स्ट बटालियन में तैनात हैं और वर्तमान में रोहिणी सेक्टर 26 में तैनात थे। प्रसाद नगर थाने द्वारा सूचना मिलने पर दोनों पुलिसकर्मियों को निलम्बित कर दिया गया है। वहीं डीबीजी रोड पुलिस अब दोनों पुलिसकर्मियों की हिरासत लेने के लिए न्यायालय में अपील दायर की है। शुरुआती जांच में पता चला है कि तीनों कांस्टेबल करोल बाग इलाके में व्यवसायियों को निशाना बनाते थे। हालांकि मंगलवार सुबह की गई पूछताछ में आरोपियों ने खुलासा किया है कि उन्होंने साउथ फिल्म देखकर किडनैपिंग करने का आईडिया बनाया था। फिलहाल दोनों आरोपियों को 4 दिन की हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है।

comments

.
.
.
.
.