Wednesday, Dec 08, 2021
-->
fire-in-the-building-no-people-including-3-senior-citizens-trapped-in-the-flats-were-rescued

बिल्डिंग में लगी आग,फ्लैटों में फंसे 3 सीनियर सिटीजन समेत नो लोगो को सुरक्षित निकाला

  • Updated on 10/1/2021

 नई दिल्ली। टीम डिजिटल। साउथ रोहिणी पुलिस के दो जांबाज पुलिसकर्मियों ने अपनी जान पर खेलकर चार सीनियर सिटीजन समेत 9 लोगो को सकुशल बिल्डिंग में लगी आग के बाद धुंए के गुब्बार से बाहर निकाला। जिनके परिवार वालो ने दिल्ली पुलिस का शुक्रियादा किया। दोनो जांबाज पुलिस वालों की रोहिणी जिला नही बल्कि पुलिस महकमें तारीफ हो रही है। 

 जानकारी के मुताबिक वीरवार शाम पौने चार बजे  पुलिस को सेक्टर 2 रोहिणी, पॉकेट 6 डीडीए फ्लैट में आग लगने की सूचना मिली थी। जिसमी बताया गया कि बिल्डिंग में कई परिवार के फंसने की संभावना जाहिर की गई थी। एसएचओ साउथ रोहिणी के निर्देशन में तुरंत एएसआई  धर्मबीर सिंह और हेड कांस्टेबल संते  समेत अन्य पुलिस वालों को मौके पर भेजा गया। बिल्डिंग चार मंजिला थी,जिसकी हर मंजिल पर चार चार फ्लैट थे। बाहर खड़े लोग  अंदर फंसे लोगों की सहायता करने में असमर्थ थे।

जबकिं बिल्डिंग के ऊपरी मंजिल के फ्लैटों से बचाने की आवाजें आ रही थी।  आग ग्राउंड फ्लोर पर बनी सीढ़ियों में लगे बिजली के मीटर में लगी थी। जिनको लकड़ी के बॉक्स से बंद किया गया था। सीढ़ी में आग और  धुंए का गुब्बार  था।  ऊपर जाने का  बस वही एक रास्ता था। दोनो पुलिस वालों ने हिमायत और साहस का परिचय देते हुए अपनी जान जोखिम में डालकर  बाहर  खड़े लोगो से कंबल का इंतज़ाम करवाया।

कंबल ओढ़कर दोनो पुलिस वाले आग के गुब्बार से सीढ़ी से पहली मंजिल पर पहुँचे।  एक फ्लैट में 80 साल की महिला कश्मीरी पंडित अकेली थी।  जिनको सांस लेने में काफी  दिक्कत हो रही थी। उनको कंबल उड़ाकर तुरंत उसी सीढ़ी से सकुशल तरीके से बिल्डिंग से बाहर निकाला। जिनको तुरंत पानी आदि दिया गया। अन्य पुलिस वालों ने  उनसे बातचीत कर उनके अंदर से डर को बाहर निकाला। इसी तरह से  दोनो पुलिस वाली तीसरी और चौथी मंजिल पर पहुँचे। वहां से  सीनियर सिटीजन  दुलारी देवी और हर्ष कपूर समेत ब बच्चों समेत 9 लोगो को एक  एक करके बिल्डिंग से बाहर निकाला गया। जिसमें दोनो पुलिस वालों को भी सांस लेने में दिक्कत आ रही थी। सभी परिवार के लोगो ने मौके पर पहुँचकर अपने सदस्यों से हालचाल पूछा। लोगो ने पुलिस के साहस की तारीफ की।

लोगो ने बताया कि बिल्डिंग का कोई आपातकालीन गेट या सीढ़ी नही है, जिससे कभी ऐसा हादसा हो तो लोगो को बचाया जा सके। लोगो ने बताया कि आग जिस जगह पर लगी थी। वहीं से आना जाना होता है। आग लगने के बाद धुंआ घरों में घुस गया था,जिससे सीनियर सिटीजन को सांस लेने में काफी दिक़्कत हो रही थी। जबकिं बच्चों के गले मे धुंआ जाने से उनके गले मे जलन और खांसी की शिकायत हो गई थी। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.