Friday, Jun 18, 2021
-->
first case of love jihad filed in bareilly sohsnt

यूपी: बरेली में दर्ज हुआ लव जिहाद का पहला केस, युवती से जबरन धर्म परिवर्तन कराने की कोशिश

  • Updated on 11/29/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश (Uttar pradesh) में गैर कानूनी तरीके से धर्मांतरण पर रोक से जुड़े योगी सरकार (Yogi Govt) के अध्यादेश को मंजूरी मिलने के बाद बरेली (Bareilly) में धर्म परिवर्तन कराने का पहला मामला दर्ज किया गया है। बरेली के देवरनिया में लव जिहाद के आरोप में उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अधिनियम 3/5 की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक, टीकाराम ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई कि दूसरे संप्रदाय का एक युवक उनकी बेटी को बहला-फुसलाकर धर्म परिवर्तन का दबाव बना रहा है। 

दिल्ली हिंसाः चार्जशीट में बड़ा खुलासा, पथराव में शामिल थीं बांग्ला बोलने वाली 300 महिलाएं

बहला फुसलाकर धर्म परिवर्तन कराने का आरोप 
दरअसल, देवरनिया के गांव शरीफनगर से धर्म परिवर्तन कराने का ये मामला सामने आया है, जहां शरीफनगर निवासी टीकाराम ने बताया कि उनकी बेटी पर गांव में ही रहने वाले रफीर अहमद का बेटा उवैस अहमद जबरन धर्म परिवर्तन कराने का दबाव बना रहा है। पीड़ित ने बताया कि आरोपी उवैस अहमद पढ़ाई के समय से ही बेटी को जनता है। इस दौरान उसने उनकी बेटी से जान पहचान भी बना ली। टीकाराम और उनके परिवार कि ओर से कई बार उवैस को समझाने का प्रयास किया गया, लेकिन आरोपी नहीं माना, जिसके बाद पीड़ित ने थाने में शिकायत दर्ज कराई।

योगी ने की हैदराबाद का नाम बदलने की बात, सपा ने कहा- UP में कानून व्‍यवस्‍था पर ध्‍यान दें CM

आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस
पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया है कि जबरन धर्म परिवर्तन कराने का विरोध किया गया तो आरोपी उवैस अहमद ने जान से मारने की धमकी देते हुए पीड़ित परिवार को गालियां दी। इसके बाद पीड़ित ने देवरनियां थाने में शिकायत दर्ज करा दी। पुलिस ने अध्यादेशित उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अधिनियम 3/5, 2020 तथा आईपीसी की धारा 504/506 के तहत मुकदमा दर्ज कर  लिया है। फिलहाल आरोपी फरार है, पुलिस मामले की जांच कर आरोपी की तलाश में जुट गई है।

ऐसा अन्याय, ऐसी लाठी, इस तरीके से आतंकी हमला सिर्फ BJP की सरकार में हो रहा है- अखिलेश यादव

 

अधिकारियों ने कही ये बात
अधिकारियों ने बताया कि मामला बरेली जिले के देवरनियां थाने में शनिवार को दर्ज किया गया। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी की ओर से रविवार को जारी बयान के अनुसार देवरनियां पुलिस थाने (बरेली) के अंतर्गत शरीफ नगर गांव के टीकाराम ने यह मामला दर्ज कराया है, जिसमें उसने उसी गांव के एक व्यक्ति उवैश अहमद पर उसकी बेटी को 'बहला फुसलाकर' धर्मांतरण की कोशिश करने का आरोप लगाया। 

राज्यपाल ने योगी सरकार के लव जिहाद वाले धर्मांतरण रोधी अध्यादेश को दी मंजूरी, आज से लागू

10 वर्ष कारावास और जुर्माने का प्रावधान
गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने ‘उत्तर प्रदेश विधि विरूद्ध धर्म संपविर्तन प्रतिषेध अध्यादेश, 2020’ को शनिवार को मंजूरी दे दी।  सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में पिछले मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में इस अध्यादेश को मंजूरी दी गई थी। इसमें विवाह के लिए छल, कपट, प्रलोभन देने या बलपूर्वक धर्मांतरण कराए जाने पर अधिकतम 10 वर्ष कारावास और जुर्माने का प्रावधान किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.