Tuesday, Jan 25, 2022
-->
for-three-hundred-rupees-real-brothers-crushed-the-young-man-to-death-with-a-car

तीन सौ रुपए के लिए सगे भाइयों ने युवक को कार से कुचलकर मार डाला

  • Updated on 12/7/2021

नई दिल्ली, (टीम डिजिटल):दिल्ली से सटे नोएडा में थाना इकोटेक प्रथम क्षेत्र के घरबरा गांव में दो सगे भाइयों ने तीन सौ रुपए के लिए एक युवक को कार से कुचल कर मार डाला। आरोपियों ने युवक से ट्रेन के टिकट बुक करवाए थे। इसमें अधिक पैसा लेने को लेकर दोनों के बीच विवाद हुआ था। पुलिस ने इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है, जबकि दूसरा आरोपी अभी फरार है।

ग्रेटर नोएडा एडीसीपी विशाल पांडे ने बताया कि घरबरा गांव का रहने वाला नितिन शर्मा गांव में मोबाइल की दुकान चलाता था। दरअसल, कुछ दिनों पहले गांव के रहने वाले दो सगे भाई अरुण और नकुल ने वैष्णो देवी जाने के लिए दुकानदार नितिन से ट्रेन के टिकट बुक करवाए थे। आरोप है कि टिकट बुकिंग के दौरान 300 रुपये अधिक लेने पर दुकानदार से आरोपियों का विवाद हुआ था। इसके चलते आरोपी दोनों सगे भाइयों ने सोमवार को दुकान के बाहर खड़े नितिन पर गाड़ी चढ़ा दी। गंभीर हालत में उसको ग्रेटर नोएडा के यथार्थ अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। इस मामले में उसके परिजनों ने आरोपी भाइयों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करवाया था।एडीसीपी विशाल पांडे ने बताया कि ईकोटेक वन कोतवाली पुलिस ने कार्रवाई करते हुए एक आरोपी नकुल को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि दूसरा आरोपी अरुण अभी फरार हैं। पुलिस की टीम उसकी तलाश में दबिश दे रही है।

पहले मारपीट कर लूटा था मोबाइल 

परिजनों ने बताया कि आरोपी सगे भाइयों ने रेकी कर नितिन की हत्या की। सोमवार की सुबह दोनों आरोपी सगे भाई दुकान पर पहुंचे थे। लेकिन उस समय नितिन दुकान पर नहीं था। वह कासना कस्बे में सामान लेने गया था। आरोपी पीछा करते हुए कस्बे में पहुंचे नितिन को ढूंढ़ कर उसके साथ मारपीट की और मोबाइल लूट लिया। इसके बाद नितिन दुकान पहुंचा तो आरोपी वहां भी पहुंच गए। आरोपी सगे भाई तेज रफ्तार में कार लेकर आए और नितिन के ऊपर चढ़ा दी। आरोप है कि आरोपियों ने कई बार नितिन को गाड़ी से कुचला।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.