Monday, Jun 27, 2022
-->
found-in-dowry-check-bounced-conspiracy-to-kill-wife

दहेज में मिला चेक हुआ बाउंस तो रची पत्नी की हत्या की साजिश 

  • Updated on 11/10/2021

दहेज में मिला चेक हुआ बाउंस तो रची पत्नी की हत्या की साजिश 
ममेरे भाई व भतीजे ने दिया हत्या की वारदात को अंजाम
10 माह पूर्व ही हुआ था मृतका व आरोपी का विवाह

नई दिल्ली, पंकज वशिष्ठ। उत्तरी जिला की बुराड़ी थाना पुलिस ने पत्नी पिंकी सिंह की हत्या की साजिश रचने के आरोप में मृतका के पति डीयू के सहायक प्रोफेसर व उसके भतीज को भी गिरफ़्तार कर लिया है।  पुलिस के अनुसार, आरोपी प्रोफेसर ने दहेज में मिला चेक बाउंस होने के कारण पत्नी पिंकी सिंह की हत्या की साजिश रची थी। पुलिस ने हत्या के आरोप में मृतका के पति उसके भतीजे व भाई को गिरफ्तार किया है।
 

राकेश ने पिंकी की हत्या के बाद किया था सरेंडर
आरोपी वीरेंद्र संत नगर में अपनी पत्नी पिंकी और बुजुर्ग माता पिता के साथ रहता था। वह रामजस कालेज में संस्कृत का सहायक प्रोफेसर था। वीरेंद्र का विवाह इसी साल फरवरी में गाजियाबाद निवासी पिंकी से शादी हुई थी। वीरेंद्र के दूर के भाई राकेश ने सोमवार देर शाम को पिंकी की संत नगर स्थित घर में हत्या कर दी थी और खुद पुलिस के पास जाकर समर्पण कर अपना अपराध स्वीकार कर लिया था। जिसके चलते पुलिस राकेश को ही मुख्य आरोपी मान रही थी।
 

फोन कॉल व सीसीटीवी फुटेज से हुआ खुलासा 
पुलिस के अनुसार आरोपी राकेश के आत्मसमर्पण करने के बाद पुलिस ने वीरेंद्र को अस्पताल से बुलाया, पुलिस ने उसे वारदात की जानकारी नहीं दी थी, विरेंद्र भी वारदात से अनजान बनने का नाटक कर रहा था कि उसे पत्ऩी पिकी की हत्य़ा के बारे में कुछ मालूम नहीं है। पुलिस ने वीरेंद्र और राकेश के कॉल डिटेल्स और मोबाइल की लोकेशन की जांच की। 
 

पति भाई व भतीजे ने दिया हत्या को अंजाम
वारदात से पहले और बाद में दोनों की बात हुई थी। दोनो के शक के रडार पर आने के बाद पुलिस टीम ने करीब तीन सौ सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाली इसके बाद पिंकी के मर्डर में वीरेंद्र की संलिप्ताता परत दर परत खुलती चली गई।  जब पुलिस ने सबूतों को सामने रखकर पूछताछ की तो उसने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया और अपने भतीजे गोविंद को भी हत्या में शामिल कर लिया। 
 

दहेज का चैक बाउंस होने से गुस्से में था आरोपी
उत़्तरी जिला डीसीपी सागर सिंह कलसी ने बताया कि वीरेंद्र करीब 15 दिन से हत्या की साजिश रच रहा था। आरोपी ने बताया कि उसे तिलक में पांच लाख रुपये का चेक दिया गया था जो बाउंस हो गया। 
 

पिंकी की दूसरी शादी का पता लगा तो रची साजिश
फिर उसे मालूम हुआ कि पिंकी की यह दूसरी शादी है जिसके बाद उसे ठगे जाने का अहसास हुआ। वहीं अगस्त में पिंकी ने राकेश को भी घर से निकाल दिया। उसने राकेश को चेक बांउस और पिंकी की दूसरी शादी की बात छुपाने के बारे में बताया और पिंकी को रास्ते से हटाने के लिए तैयार कर लिया। 
 

पिंकी ने घर से निकाला तो कर दी हत्या
पुलिस से पूछताछ में राकेश ने बताया कि वीरेंद्र ने उसकी पत्नी और दोनों बच्चों के पालन पोषण की जिम्मेदारी ली थी। लेकिन पिंकी के द्वारा घर से निकाले जाने के बाद वह पिंकी की हत्या करने के लिए तैयार हो गया। 
 

पिंकी की हत्या के बाद फोन कर दी सूचना
वीरेंद्र राकेश और गोविंद ने मिलकर पिंकी की हत्या की योजना तैयार की। हत्या का दिन और समय राकेश ने तय किया। जब वीरेंद्र अपनी मां को अस्पताल में भर्ती कराने के लिए निकला तो उसने इसकी सूचना फोन कर राकेश को दे दी। फिर हत्या करने के बाद राकेश ने तुरंत इसकी सूचना वीरेंद्र को दी।
 

विरेंद्र के बुजुर्ग माता पिता की देखभाल कर रही पुलिस
वारदात के पहले वीरेंद्र की मां मुखर्जी नगर स्थित अस्पताल में भर्ती हो गईं थी। घटना की जानकारी होने पर आरोपी शिक्षक के पिता की भी तबीयत खराब हो गई उन्हे पुलिस ने निजी अस्पताल में भर्ती करावाया है। बेटे के जेल जाने के बाद बुजुर्ग माता पिता का कोई सहारा नहीं रह गया है। फिलहाल एसएचओ राजेंद्र कुमार एसआई दीपक कुमार बुजुर्गों की देखरेख की जिम्मेदारी संभाल रहे है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.