Thursday, Feb 09, 2023
-->
Fraud of crores online from foreigners sitting in business park

बिजनेस पार्क में बैठकर विदेशियों से ऑनलाइन करोड़ों की ठगी, इंटरनेशनल गैंग के 15 सदस्य गिरफ्तार

  • Updated on 11/26/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। पुलिस एवं साइबर सैल की संयुक्त टीम ने अंतरराष्ट्रीय ठग गिरोह का पर्दाफाश किया है। गैंग के 15 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया हैं। यह गैंग रिमोट एक्सेस एप्लीकेशन डाउनलोड कराकर विदेशियों को निशाना बनाता था। ठगी के जरिए अब तक करोड़ों रुपए डकार लिए गए हैं। 

गाजियाबाद में लिंक रोड थाना क्षेत्र के पैसिफिक बिजनेस पार्क से ठगी का अड्डा संचालित हो रहा था। आरोपियों के कब्जे से मोबाइल, कंप्यूटर सिस्टम, फर्जी आधार कार्ड, पैन कार्ड व 4 कार आदि सामान बरामद हुआ है। गैंग के कृत्यों की गहनता से जांच चल रही है। 

साइबर सैल प्रभारी सौरभ विक्रम सिंह के मुताबिक पैसिफिक बिजनेस पार्क लिंक रोड में छापा मारकर अंतरराष्ट्रीय ठग गिरोह के 15 सदस्यों को दबोचा गया है। यह गैंग बेहद शातिर अंदाज में काम करता था। गैंग के चंगुल में फंसकर देश-विदेश के सैकड़ों नागरिकों को करोड़ों रुपए की चपत लग चुकी है। 

उन्होंने बताया कि यह गिरोह बीआरआई कॉलिंग एप से अमेरिका सदन नाम से फर्जी हेल्पलाइन नंबर बनाकर वहां के कंप्यूटर इलैक्ट्रॉनिक डिवाइस बग/वायरस रिमोट भेजकर डिवाइस हैक कर देता था। इस डिवाइस पर फर्जी हेल्पलाइन नंबर दिखाकर वहां के डिवाइस उपयोगकर्ता को रिमोट एक्सेस एप पर लिया जाता था। 

इसके बाद फर्जी तरीके से डॉलर ट्रांसफर कर लिए जाते थे। ऐसा कर देश-विदेश के सैकड़ों नागरिकों से मोटी रकम हड़प ली गई। पुलिस ने बताया कि इस प्रकरण में नदीम खान निवासी एटा, अभिषेक राणावत निवासी शालीमार गार्डन साहिबाबाद, ओम शर्मा निवासी गोविंदपुरम गाजियाबाद, आकाश शर्मा निवासी टप्पल अलीगढ़ को पकड़ा गया है।

इसके अलावा राजा चौहान निवासी ग्रेटर नोएडा वेस्ट, रणजीत कुमार निवासी सेक्टर-71 नोएडा, ताबिश निवासी इंदिरापुरम, रोहित कुमार निवासी बदरपुर दिल्ली, ऋषि दुबे निवासी जैतपुर दिल्ली, नवदीप मलिक निवासी फरीदाबाद, ऋषभ वशिष्ठ निवासी दिल्ली, मेहरूनिशा निवासी ग्रीन आर्च ग्रेटर नोएडा, अरूण कुमार निवासी कल्याणपुरी दिल्ली, 

सत्यानारायण कुमार निवासी औरंगाबाद बिहार तथा लोपामुद्रा निवासी ग्रेटर नोएडा वेस्ट को दबोचा गया है। आरोपियों के कब्जे से पैन कार्ड, 15 मोबाइल, 22 कंप्यूटर सिस्टम, 6 फर्जी आधार कार्ड, भारत एवं यूएसए के नागरिकों से ठगी कर एकत्र किए गए चैक की छायाप्रति के अलावा 4 कार बरामद की गई हैं। 

comments

.
.
.
.
.