Friday, Sep 30, 2022
-->
Fraud with retired officer in the name of Adani Group

अडानी ग्रुप के नाम पर रिटायर्ड अधिकारी के साथ फर्जीवाड़ा, सीएनजी पंप के चक्कर में डूबे कई लाख

  • Updated on 7/24/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। अडानी ग्रुप के नाम पर सेना के रिटायर्ड अधिकारी से 3.25 लाख रुपए हड़प लिए गए। जालसाजों ने सीएनजी पंप लगवाने का भरोसा दिलाकर 2 किस्त में यह रकम झारखंड एवं गाजियाबाद के खातों में ट्रांसफर करा ली। धोखाधड़ी के लिए फर्जी वेबसाइट का प्रयोग किया गया। रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस जांच कर रही है। 

जांच में साइबर सेल की मदद ली जाएगी। गाजियाबाद के नंदग्राम थाना क्षेत्र में यह मामला प्रकाश में आया है। सेना के रिटायर्ड सूबेदार शशिभूषण त्यागी नंदग्राम बी ब्लॉक के एचआईजी में रहते हैं। रिटायरमेंट के बाद उन्होंने सीएनजी पंप संचालित करने की प्लानिंग की थी। 

इसके लिए मेरठ में पर्याप्त भूमि उपलब्ध है। वेबसाइट पर सर्चिंग के उपरांत उन्होंने अडानी टोटल गैस लिमिटेड में दिलचस्पी दिखाई। वेबसाइट पर ऑनलाइन फॉर्म भरने पर उन्हें लिंक भेजा गया। लिंक में 50 हजार रुपए पंजीकरण शुल्क की डिमांड की गई थी। रिटायर्ड सूबेदार ने भरोसा कर यह रकम ऑनलाइन बैंक खाते में भेज दी। 

तदुपरांत अडानी ग्रुप के पहचान पत्र के साथ आए छदम सर्वे अधिकारी ने भूमि का सर्वे कर रिपोर्ट अग्रसरित कर दी। इसी क्रम में शशिभूषण त्यागी ने संबंधित वेबसाइट से नंबर लेकर 8 जुलाई को फोन किया। कॉलर ने खुद का परिचय संदीप पटेल के तौर पर दिया। संदीप ने अपने को अडानी ग्रुप का कर्मचारी बताया। 

कर्मचारी ने सीएनजी पंप की एवज में पेट्रोलियम मंत्रालय से लाइसेंस लेने की खातिर 2 लाख 75 हजार रुपए की डिमांड की। ज्यादा छानबीन किए बगैर त्यागी ने वह रकम भी ट्रांसफर कर दी। तदुपरांत 12 जुलाई को बैंक जाकर खातों की जांच कराने पर उन्हें धोखाधड़ी का पता चला। 

दरअसल गुजरात के अहमदाबाद के बैंक खातों के नाम पर झारखंड और डासना (गाजियाबाद) के खातों में रकम ट्रांसफर कराई गई थी। वहीं, एसएचओ मुनेंद्र सिंह ने बताया कि इस प्रकरण में रिपोर्ट दर्ज कर जांच की जा रही है।
 

comments

.
.
.
.
.