Wednesday, Dec 07, 2022
-->
fraudulent-gang-busted-in-the-name-of-getting-admission-in-mbbs

एमबीबीएस में दाखिला कराने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले गैंग का पर्दाफाश 

  • Updated on 3/9/2022

नई दिल्ली,(टीम डिजिटल):दिल्ली से सटे नोएडा में थाना सेक्टर 58 पुलिस ने एमबीबीएस कॉलेज में दाखिला कराने के नाम पर करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी करने वाले गैंग का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने गैंग की तीन महिलाओं सहित पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया है। पुलिस का दावा है कि यह गैंग पिछले काफी समय एमबीबीएस में दाखिला कराने के नाम पर धोखाधड़ी कर रहे थे। गैंग के मुख्य आरोपी सहित 11 लोग फरार चल रहे हैं। पुलिस उनकी तलाश में जुटी है। 

एडीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि थाना सेक्टर 58 पुलिस ने एमबीबीएस कॉलेज में दाखिला कराने के नाम पर करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी करने वाले गैंग का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने मंगलवार को आईथम टावर सेक्टर 62 से तीन महिलाओं सहित पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों की पहचान दिपेश, अवनीश श्रीवास्तव, दिव्या मिश्रा, कनिका ओझा उर्फ कविता और निधि मारवा के रूप में हुई है। वहीं फरार आरोपियों की पहचान शशिकान्त,कुन्दन कुमार,अर्नव सिंह, हीरा लाल,रीतू गुप्ता,शैलेन्द्र,उज्जवल सिंह,रितेश सिंह,कुलदीप, हर्ष तोमर और नन्दनी के रूप में हुई है। पुलिस फरार आरोपियों की तलाश में जुटी है। 
 

इस तरह लोगों के साथ की धोखाधड़ी 
एडीसीपी ने बताया कि सेक्टर 62 स्थित आईथम टावर के ब्लाक सी व टावर ए 811 में कैरियर ऐडमीशन काउंसलिंग का ऑफिस है। ऑफिस में आरोपी अवनीश श्रीवास्तव में एचआर मैनेजर व दीपेश टेलीकॉलर के पद पर कार्य करता है और निधि मारवा एचआर का कार्यभार देखती है। गिरफ्तार आरोपी दिव्या मिश्रा ने बताया कि दिल्ली निवसी जीनत अली जैदी मैडम ने अपने बेटे अतुल अली व बेनजीर अली के साथ उनसे ऑफिस में मिली। जीनत के साथ इनके दोस्त राजेश सानडिल व एक अन्य गुजंन रावत ने ने अपने बच्चों का शारदा मेडिकल कॉलेज में काउंसलिंग कराने के लिए सात लाख रुपए दिए थे। दिव्या मिश्रा ने बताया कि पैसा लेने के बाद ऑफिस से फर्जी काउंसलिंग लेटर बनाकर उसे उन लोगों को जारी कर दिया। साथ ही आरोपियों ने पीडि़तों के बच्चे का एमबीबीएस कॉलेज में दाखिला कराने के नाम पर जीनत अली जैदी से 32 लाख रुपए, राजेश सानडिल 4.5 लाख रुपए ले लिए। आरोपियों ने पीडि़तों को बताया कि उनके बच्चों का दाखिला सरोजनी नायडू मेडिकल कॉलेज आगरा में हो जाएगा। आरोपियों ने पीडि़तों को सरोजनी नायडू मेडिकल कॉलेज फर्जी काउंसलिंग लेटर भी पकड़ा दिया। बाद में जब पीडि़त लेटर लेकर कॉलेज पहुंचे तो उन्हें फर्जीवाड़े पता चला। जिसके बाद पीडि़तों ने मामले की शिकायत थाना सेक्टर 58 पुलिस से की। 
 

कंपनी के सीईओ सहित फरार आरोपियों की तलाश में पुलिस 
गिरफ्तार आरोपियों ने पूछताछ करने पर बताया कि कंपनी का सीईओ उज्जवल है। अर्नव सिंह एडिसनल हेड है। शैलेन्द्र ब्रांच हैड है। रितेश सेन्टर हेड, रीतु गुप्ता कोडीनेटर, शाशिकान्त एडिसनल कौडिनेटर, कुन्दन और हीरालाल सीईओ उज्जवल के सहायक है। सभी आरोपी फरार चल रहे हैं। पुलिस का दावा है कि जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.