Friday, Sep 29, 2023
-->

दोस्तों ने कार लूटने के इरादे से की थी कैब चालक की हत्या, गिरफ्तार

  • Updated on 7/19/2017

Navodayatimesनई दिल्ली /ब्यूरो। सूरजपुर पुलिस ने बीती 4 जुलाई से लापता कैब चालक मामले का खुलासा कर दिया। पुलिस के अनुसार कैब चालक के साथियों ने उसका अपहरण कर कार लूटने के इरादे से गला दबाकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर वारदात को अंजाम देने वाले तीनों आरोपियों को दादरी बाइपास के पास गिरफ्तार कर लिया।

8 घंटे की बिजली कटौती से परेशान हुए लोग, अफसरों को पता ही नहीं

पुलिस  ने आरोपियों के कब्जे से लूटी गई कार और एक मोबाइल बरामद किया, जबकि आरोपियों की ही निशानदेही पर पुलिस ने जिला हापुड़ के खेड़ा गांव के पास झाडिय़ों से हत्या में प्रयुक्त किये गये क्लिच के तार को भी बरामद कर लिया है। पुलिस के अनुसार आरोपियों ने शव को ठिकाने लगाने के लिए गाजियाबाद के डासना फ्लाईओवर से नीचे  झाडिय़ों में फैक दिया था। गाजियाबाद पुलिस ने शव लावारिस अवस्था में बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

पुलिस ने मृतक के फोटों और कपड़ों से कैब चालक के शव की पहचान की। बहरहाल पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ  कानूनी कार्रवाई कर जेल भेज दिया है।

मूलरूप से जिला बुलन्दशहर के हुर्थला गांव निवासी मूलचन्द पुत्र किरनपाल सूरजपुर के मलकपुर गांव में रहता था। वह अपने ही गांव के साकिर पुत्र कलुआ की वैगेनआर कार को चलाता था। कार उबैर टैक्सी सर्विस में चलती थी। बीती 12 जुलाई को साकिर ने पुलिस को तहरीर देते हुए कहा कि मूलचन्द बीती 4 जुलाई को गाजियाबाद गया था। 6 जुलाई तक वह उसके सम्पर्क में था। 6 जुलाई के बाद उसका व कार का कहीं कोई पता नहीं है।

तहरीर के आधार पर पुलिस ने टीम बनाकर मामले की जांच शुरू कर दी। बीते सोमवार देर शाम को मुखबिर से सूचना मिली कि कैब चालक के साथ अन्तिम बार देखे गये तीन लोग दादरी कंटेनर डिपो के पास दादरी बाइपास पर एक कार में मौजूद हैं।

मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने आरोपियों को मौके से दबोच लिया। आरोपियों की पहचान राहुल और राजकुमार उर्फ  राजू निवासी गांव पारपा धौलाना जिला हापुड़ तथा वसीम निवासी ढिकौली अगौता जिला बुलन्दशहर के रूप में हुई। आरोपी राहुल एक कैब चालक है, जबकि राजकुमार तथा वसीम दादरी में डग्गेमारी की बसें चलाते हैं। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि वसीम की मूलचन्द से उनकी पूरानी दोस्ती थी।

पत्नी के जुल्मों से परेशान IPS के बेटे ने की खुदकुशी

वसीम ने ही मूलचन्द की मूलाकात राहुल और राजू से कराई। वसीम ने मूलचन्द की कार को लूटकर रुपये कमाने की योजना बनाई थी। रुपयों का लालच देकर उसने राहुल और राजू को भी अपने साथ मिला लिया। जिसके बाद राहल ने पूरी घटना को आगे बढ़कर अंजाम दिया। आरोपियों ने बताया कि उन्होंने 7 जुलाई देर शाम को दादरी रेलवे फीटक के पास मूलचन्द को शराब पिलाकर बेहोश कर लिया और उसको कार में लेकर धौलाना के खेड़ा गांव के पास ले गये।

गांव के बिजलीघर के पास उन्होंने कार की क्ल्चि के एक तार से उसका गला घोटकर हत्या कर उसके दोनों मोबाइल लूट लिये। बाद में एक मोबाइल को तोड़कर रास्ते में फैंक दिया। आरोपी शव को मसूरी गंगनहर में ठिकाने लगाना चाहते थे, लेकिन वहां पर लोगों की आवाजाही होने के कारण सफ ल नहीं हो सके। बाद में आरोपियों ने शव को डासना फ्लाईओवर से नीचे फैंककर फरार हो गये। आरोपियों ने कार का 1 लाख रुपयों में मेरठ किसी के पास सौदा तय कर दिया था। बीते सोमवार को आरोपी कार का नम्बर बदलकर गाजियाबाद होते हुए मेरठ कार को बेचने के लिए ले जा रहे थे, तभी पुलिस ने उन्हें दबोच लिया। 

ये कहती हैं एसपी देहात: एसपी देहात सुनीति सिंह का कहना है कि आरोपियों ने कैब चालक की हत्या कर कार लूट की योजना बनाई थी। आरोपी लूटी गई कार को बेचकर प्राप्त रुपयों को आपस में बंटना चाहते थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.