Thursday, Aug 16, 2018

एक के बाद एक सामने आ रहें आश्रय गृहों के खेल, अब यहां से गायब हुई महिलाएं

  • Updated on 8/9/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ के जिलाधिकारी शंभु कुमार ने दो आश्रय गृहों में अचानक छापा मारा तो निरीक्षण के दौरान वहां रहने वाली छब्बीस महिलाएं गायब पाई गई। उन्होंने दोनों आश्रय गृहों के जांच का आदेश दिया है।    जिलाधिकारी शंभु कुमार ने कल शाम अष्टभुजा नगर के जागृती स्वाधार महिला आश्रय पर छापेमारी की तो इसकी संचालिका तथ भाजपा महिला मोर्चा की पूर्व जिलाध्यक्ष रमा मिश्रा ने पंजीकृत महिलाओं की संख्या सोलह बताई, जबकि मौके पर एक महिला रजिया मिली।

शेष के बारे में बताया गया की बाहर काम करने गई है। उप जिलाधिकारी सदर सत्य प्रकाश सिंह ने अचलपुर स्थित स्वाधार केंद्र पर देर रात निरीक्षण में पंद्रह में से बारह महिलाएं गायब पाई गयी। संचालिका नेहा परवीन ने बताया कि सरकार से कोई फंड नहीं मिलता, वह स्वयं के खर्च पर संचालन करती है।

जबकि शाम को जिलाधिकारी ने निरीक्षण किया तो एक भी महिला नहीं थी केवल तीन बच्चियां मौजूद थी। लेकिन देर रात तक महिलाएं क्यों वापस नहीं लौटी इसका उत्तर प्रशासन को नहीं मिल सका। जिलाधिकारी ने कहा की सत्यापन में छब्बीस महिलाएं गायब पाई गई हैं और मामले की जांच कराई जा रही है। महिलाएं कहाँ गई, क्यों गई हैं इसकी जांच के बाद दोनों केन्द्रों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। 

ऐसे हरकत में आई सरकारें

बता दें कि मामला मुजफ्फरपुर कांड के बाद सुर्खियों में आया। इसके बाद उत्तर प्रदेश के देवरिया से एक बाल गृह का पर्दा फाश हुआ। इतने बड़े-बड़े खेल सामने आने के बाद से दूसरे राज्यों की सरकारें हरकत में आई और अधिकारियों को सभी जिलों के बाल और आश्रय गृहों की देख-रेख रखने के आदेश दिए। विपक्ष लगातार इन मामलों को लेकर सरकार को घेरने का काम कर रहा है। विपक्ष के एकजुट होकर जंतर मंतर पर हुए प्रदर्शन के बाद मामला राष्ट्रीय स्तर पर पहुंचा और मामला गंभीरता से लिया गया। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.