Monday, May 23, 2022
-->
Games in bail, 2 fake bailiffs arrested, 5 accused in business murder case

जमानत में खेल, 2 फर्जी जमानती गिरफ्तार, कारोबारी हत्याकांड में 5 आरोपियों की तलाश

  • Updated on 1/25/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। गाजियाबाद में कारोबारी बिजेंद्र गर्ग हत्याकांड में पुलिस ने 2 फर्जी जमानती गिरफ्तार किए हैं। दोनों ने गजब का कारनामा किया था। 2 हत्यारोपियों को जमानत दिलाने के लिए आरोपियों ने फर्जीवाड़ा कर जमानत दी थी। थाना व तहसील की फर्जी मुहर के जरिए खुद का सत्यापन कराया गया था। 

वकील को भी ढूंढ़ रही पुलिस
इस प्रकरण में अभी 2 हत्यारोपी, 2 और फर्जी जमानती व वकील की पुलिस को सरगर्मी से तलाश है। जमानत के दौरान वकील ने वकालतनामा लगाया था। घंटाघर कोतवाली क्षेत्र में लूट का विरोध करने पर कारोबारी बिजेंद्र गर्ग की हत्या कर दी गई थी। वारदात विगत 27 फरवरी 2019 की है। मौहल्ला नसरतपुरा निवासी बिजेंद्र पेशे से खाद्य एवं तेल के कारोबारी थे। 

गाजियाबाद में 2019 में वारदात
बदमाशों ने कारोबारी से नकदी से भरा थैला लूट लिया था। दिल्ली पुलिस ने इस प्रकरण में बदमाश रितेश को गिरफ्तार किया था। रितेश से पूछताछ के बाद पुलिस ने खुलासा किया था कि व्यापारी गौरव गोयल निवासी राजीवपुरम डासना ने वारदात का षडयंत्र रचा था। पुलिस ने गौरव के अलावा देवेश उर्फ बंटी निवासी दुहाई को गिरफ्तार कर लिया। 2019 में दोनों को कोर्ट से जमानत मिल गई थी। 

हत्यारोपियों को दिलाई थी जमानत
तदुपरांत पुलिस द्वारा गैंगस्टर में निरूद्ध किए जाने पर दोनों आरोपी रफूचक्कर हो गए थे। बाद में जमानतियों की जांच में पुलिस को बड़ी जानकारी मिली। कृष्ण और जयकिशोर निवासी सरावा गांव हापुड़ ने देवेश तथा जोगेंद्र व मुकेश निवासी रछौती गांव मेरठ ने गौरव गोयल की जमानत ली थी। 

हापुड़ व मेरठ के हैं आरोपी
ऐसे में कोतवाली हापुड़, थाना मुंडाली मेरठ, तहसील हापुड़ और मवाना की फर्जी मुहर व अफसरों के जाली हस्ताक्षर कर जमानतियों की सत्यापन रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल की गई थी। उधर, घंटाघर कोतवाली प्रभारी आमित खारी के मुताबिक फरार मुकेश और जोगेंद्र को गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों ने फर्जीवाड़ा कर जमानत दी थी। इस मामले में अभी 2 हत्यारोपी, 2 जमानती और एक वकील फरार है।
 

comments

.
.
.
.
.