Monday, Sep 20, 2021
-->
harbhajan singh filed a complaint against the businessman of chennai sohsnt

हरभजन सिंह को चेन्नई के बिजनेसमैन ने लगाया 4 करोड़ का चूना, शिकायत दर्ज

  • Updated on 9/11/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्‍गज गेंदबाज हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने चेन्‍नई पुलिस में 4 करोड़ रुपये की ठगी का मामला दर्ज करवाया है। उन्होंने ये मामला एक व्यापारी के खिलाफ दर्ज कराया है। मिली जानकारी के मुताबिक हरभजन ने एक व्यापारी को चार करोड़ रुपये का उधार दिया था।

लकी ड्रॉ का झांसा देकर 800 लोगों से ठगे करोड़ो, बचने के लिए गूगल पर लिंक बदल देते थे बदमाश

दोस्‍त के जरिए व्यापारी से मिले हरभजन
ठगी के इस मामले में हरभजन ने बताया कि वे एक कॉमन दोस्‍त के जरिए उस व्यापारी से मिले थे। इसके बाद जब दोस्ती बढ़ी तो उन्‍होंने 2015 में उस बिजनेसमैन को उधार दिया था। इस दौरान हरभजन ने उस बिजनेसमैन से कई बार संपर्क करने की कोशिश की, मगर भुगतान नहीं किया गया।

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के खाते से जालसाजों ने निकाले लाखों रुपए, मामला दर्ज

तमिलनाडु पुलिस में व्यापारी महेश के खिलाफ शिकायत दर्ज
बिजनेसमैन ने हरभजन को पिछले महीने यानी अगस्त में 25 लाख रुपये का चेक दिया था। मगर अकाउंट में पर्याप्‍त पैसा न होने के कारण चेक बाउंस हो गया। हाल ही में चेन्‍नई जाने के बाद हरभजन ने औपचारिक रूप से इस मामले में शिकायत दर्ज कराने का फैसला लिया। उन्होंने बिजनेसमैन की हरकतों से तंग आकर बीते गुरुवार को तमिलनाडु पुलिस में व्यापारी महेश के खिलाफ शिकायत करी दी।

प. बंगाल: चोरी की एक अनोखी घटना, चोर ने इस कारण मालिक को लौटाया फोन

हरभजन सिंह ने लीग से नाम लिया वापस
मालूम हो कि स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) इस साल के इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) से हटने वाले दूसरे बड़े खिलाड़ी बन गए हैं। उन्होंने अपने फैसले के बारे में चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) टीम प्रबंधन को बता दिया है। यह 40 साल का गेंदबाज पिछले दो सत्र से सीएसके का हिस्सा रहा है। वह अभी अपने परिवार के साथ पंजाब के जालंधर में है। उन्होंने इस मामले पर उनकी निजता का सम्मान करने की मांग की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.