Monday, May 10, 2021
-->
Haryana Child prisoners escaped by attacking warders from correctional home prshnt

हरियाणा: सुधार गृह से वार्डरों पर हमला कर फरार हुए बाल बंदी, तीन घायल, कई जिलों में अलर्ट

  • Updated on 10/13/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हरियाणा (Haryana) के हिसार में बरवाला रोड (Barwala Road) पर स्थित बाल सुधार गृह (juvenile home) से बाल बंदियों के फरार होने का मामला सामने आया है।  सोमवार देर शाम सुधार गृह से 17 बाल बंदी वार्डरों पर हमला करके फरार हो गए। बंदियों द्वारा किए गए हमले में मौके पर तैनात तीन वार्डर तलविंद्र, सुनील और चंद्रकांत घायल हो गए, जिन्हें इलाज के लिए नागरिक अस्पताल में दाखिल कराया गया है। वार्डर घायल हुए हैं, जिन्हें पास के अस्पताल में फर्ती कराया गया है। घटना के बाद एएसपी उपासना यादव ने बाल सुधार गृह का दौरा किया और स्थिति का जायजा लिया।

बाल बंदियों के फरार होने के बाद पुलिस उनकी खोज में जुट गई है और वायरलेस के जरिये जिले के सभी नाकों के साथ-साथ जिले के साथ लगते अन्य जिलों की पुलिस को भी अलर्ट कर दिया गया है।

बिहार चुनाव 2020: RJD की योजनाओं को लेकर कांग्रेस में सस्पेंस, केवल 21 सीटों पर हुआ फैसला

घटना स्थल से फॉरेंसिक टीम भी जुटाए सबूत
मिली जानकार के मुकाबिक पुलिस फरार बाल बंदियों में से अबतक किसी को भी नहीं पकड़ पाई है। घटना स्थल पर मौके पर फॉरेंसिक टीम भी पहुंची, जिसने घटनास्थल से सुराग जुटाए हैं। 

जानकारी के मुताबिक सोमवार शाम करीब 6 बजे बाल बंदियों को बैरकों से बाहर निकालकर उनकी गिनती की जा रही थी। गिनती पूरी होने के बाद उन्हें खाने के लिए ले जाया जाना था, लेकिन अचानक से कुछ बाल बंदियों ने वहां तैनात वार्डरों पर हमला कर दिया।

ऐसे में वार्डरों को कुछ समझ नहीं आया और बाल बंदियों ने लकड़ी के बिंडों आदि से जो भी उन्हें मौके पर मिला, उस पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। बाल बंदी वार्डर की जेब से चाबी निकालकर ताला खोला और वहां से फरार हो गए। 

GST मुआवजे पर बोलीं वित्त मंत्री, केंद्र सरकार नहीं ले सकती राज्यों के लिए कर्ज

जिला पुलिस की 15 टीमें गठित
बता दें कि फरार हुए बाल बंदी संगीन जुर्म में आरोपी हैं।  इनमें हत्या, हत्या के प्रयास, लूटपाट, डकैती, दुष्कर्म, दुष्कर्म के प्रयास, जान से मारने की धमकी देने जैसे गंभीर अपराध के बाल बंदी शामिल हैं। इनमें से कई के खिलाफ तो अलग-अलग थानों में कई केस दर्ज हैं। 

डीएसपी की अध्यक्षता में इन्हें पकड़ने के लिए जिला पुलिस की 15 टीमें गठित की गई हैं। बाल बंदियों को पकड़ने के लिए रात में भी सर्च अभियान चलाया जा रहा है। पूरे जिले में नाकाबंदी कर दी गई है। पुलिस की ओरप से कहा गया कि नागरिक संदिग्ध व्यक्तियों की सूचना तुरंत पुलिस को दें। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें

comments

.
.
.
.
.