Tuesday, Dec 01, 2020

Live Updates: Unlock 7- Day 1

Last Updated: Tue Dec 01 2020 08:34 AM

corona virus

Total Cases

9,463,254

Recovered

8,888,595

Deaths

137,659

  • INDIA9,463,254
  • MAHARASTRA1,823,896
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA883,899
  • TAMIL NADU780,505
  • KERALA599,601
  • NEW DELHI566,648
  • UTTAR PRADESH543,888
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA318,725
  • TELANGANA268,418
  • RAJASTHAN262,805
  • BIHAR235,616
  • CHHATTISGARH234,725
  • HARYANA232,522
  • ASSAM212,483
  • GUJARAT206,714
  • MADHYA PRADESH203,231
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB151,538
  • JAMMU & KASHMIR109,383
  • JHARKHAND104,940
  • UTTARAKHAND74,340
  • GOA45,389
  • HIMACHAL PRADESH38,977
  • PUDUCHERRY36,000
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,967
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,806
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,325
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
hathras rape case controversy over removal of two doctors after cbi interrogation rkdsnt

हाथरस बलात्कार मामला : CBI की पूछताछ के बाद डॉक्टरों को हटाए जाने पर विवाद

  • Updated on 10/21/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हाथरस सामूहिक बलात्कार मामले  (Hathras rape case) में सीबीआई (CBI) द्वारा पूछताछ के 24 घंटे के अंदर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) के जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में दो अस्थायी चिकित्साधिकारियों को हटाये जाने पर विवाद खड़ा हो गया है। कनिष्ठ चिकित्सक जहां इस कार्रवाई को गलत बता रहे हैं, वहीं एएमयू प्रशासन अस्थायी चिकित्साधिकारियों की सेवा समाप्ति को लेकर जतायी जा रही आशंकाओं को बिल्कुल बेबुनियाद और बेहद काल्पनिक करार देते हुए इसे नियमित प्रक्रिया का हिस्सा बताया है। 

मुख्य सचिव हमला मामला : हाई कोर्ट ने निचली अदालत के फैसले को रद्द किया

यह मामला गत मंगलवार को प्रकाश में आया जब मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने बताया कि जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में अस्थायी चिकित्साधिकारी के तौर पर काम कर रहे डॉक्टर मोहम्मद अजीमुद्दीन और डॉक्टर उबैद इम्तियाज की सेवाएं समाप्त की जा रही हैं। हाथरस मामले की जांच कर रही सीबीआई की टीम ने सोमवार को जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल जाकर पूछताछ की थी। 

कुमार विश्वास ने चुनाव आयोग के कोविड निर्देश का उड़ाया मजाक

हाथरस मामले की पीड़िता शुरुआत में इसी अस्पताल में भर्ती करायी गयी थी। यहां से उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर किया गया था, जहां इलाज के दौरान 29 सितम्बर को उसकी मौत हो गयी थी। रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने एएमयू के कुलपति को लिखे पत्र में उनसे दो डॉक्टरों की बर्खास्तगी का आदेश वापस लेने का आग्रह किया है। पत्र में कहा गया है कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो एसोसिएशन 24 घंटे के अंदर अपनी बैठक बुलाकर भविष्य की रणनीति तय करेगा। 

SEBI ने किसानों, कृषक उत्पादक संगठनों के कोष को लेकर जारी किए दिशानिर्देश

बर्खास्त किये गये डॉक्टर मोहम्मद अजीमुद्दीन और डॉक्टर उबैद इम्तियाज का कहना है कि उन्होंने हाथरस मामले में कोई भी बयान नहीं दिया है। सेवा समाप्ति से पहले उन्हें अपनी सफाई देने तक का मौका नहीं दिया गया। दोनों ने कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर को पत्र लिखकर मामले में हस्तक्षेप की मांग की है। 

कृषि संबंधी नए कानून : अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के सीएम अमरिंदर पर किया पलटवार

एएमयू के प्रवक्ता प्रोफेसर शाफे किदवई ने इस बारे में पूछे जाने पर बताया कि उन दोनों डॉक्टरों को पिछली नौ सितम्बर को एक महीने के लिये नौकरी पर रखा गया था। उसके बाद उन्हें स्थिति के बारे में पूरी तरह अवगत कराया गया था। अब उन्हें हटाया जाना एक सामान्य प्रक्रिया है। सीबीआई द्वारा पूछताछ के बाद दोनों की सेवा समाप्त किया जाना महज एक संयोग है। 

श्रीनगर में अखबार का दफ्तर सील, विपक्षी दलों के नेताओं ने की आलोचना

इस बीच, वरिष्ठ भाजपा नेता निशांत शर्मा ने हाथरस मामले में कथित रूप से विवादास्पद बयान देने वाले सभी डॉक्टरों की केन्द्र सरकार द्वारा जांच कराये जाने की मांग की है। शर्मा ने बताया कि उन्होंने इस सिलसिले में केन्द्र सरकार को पत्र लिखकर कहा है कि इस बात की जांच की जाए कि कहीं इन डॉक्टरों का पॉपुलर फ्रंट आफ इंडिया से कोई सम्बन्ध तो नहीं है, जिस पर हाथरस कांड के पीछे साजिश रचने का आरोप है।

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.