Monday, Sep 27, 2021
-->
he-had-spoken-to-the-family-and-would-come-tomorrow-but-i-had-three-dead-bodies-

परिवार को बोलकर गए थे कल आ जाएंगे, लेकिन आई तीन लाशें

  • Updated on 9/15/2021

नई दिल्ली। टीम डिजिटल। दिल्ली से अलीगढ़  अपने दोस्त का जन्म दिन मनाने गए  दो सगे भाई समेत  चार दोस्तों को  नहीं पता था कि कुछ घंटे बाद ही उनके साथ ऐसी अनहोनी हो जाएगी। जिसमे तीन दोस्त इस दुनिया मे नही रहेंगे। उनका दिल्ली से बाहर निकलते ही  एक्सीडेंट हो जाएगा।  आजादपुर में रहने वाले दो भाई समेत पांच दोस्तों के साथ ऐसा ही हुआ। जिसमें से तीन की मौत हो गई। जबकि दो  की हालात अस्पताल में स्थिर बताई जा रही है। दो शवों का बुधवार रात  करीब साढ़े दस बजे अंतिम संस्कार किया गया। जबकि उनके एक अन्य दोस्त के शव का अंतिम संस्कार वीरवार को किया जाएगा। हादसे के बाद परिवारों में मातम छाया हुआ है। परिवार में इतनी हिम्मत नही थी कि वो शवों का अंतिम संस्कार करवा सके। उनके दोस्त व पड़ोसियों ने मिलकर अंतिम संस्कार करवाया। 
सैलून संचालक को पहले पिलाई शराब फिर सरिया से पीट-पीटकर मार डाला

मृतक दिल्ली के आजादपुर गांव के रहने वाले थे
जानकारी के मुताबिक मृतकों की पहचान मनीष,करण उर्फ कालू और  राजकुमार के रूप में हुई है। जबकि घायलों की  पहचान मृतक करण के भाई यादेश  और बिट्टू के रूप में हुई है। हादसे की चपेट में आये युवक आजादपुर गांव, दनपत कटरा इलाके में रहते थे। मनीष के परिवार में माता पिता,भाई उमेश, दो शादीशुदा बहनें, पत्नी और दो छोटे बच्चे हैं।  करण के परिवार में उसका  बड़ा भाई यादेश और बहन है।  करन  जब छोटा था उसके माता पिता का  एक्सीडेंट में देहांत हो गया था।जबकि राजकुमार के परिवार में माता पिता,पत्नी और दो बच्चे हैं। करन और राजकुमार इक्को गाड़ी चलाकर परिवार का पालन पोषण करते थे। लेकिन अब घर का पालन पोषण किस तरह से होगा। सभी को इसी की चिंता है। मनीष एक फैक्ट्री में नोकरी करता था,जिसने अपने फैक्ट्री में काम करने वाले दोस्त को बोला था कि वह  वीरवार को फैक्ट्री आएगा। 
पूर्व पुजारी ने भाई के साथ युवक गला रेता,नाले में शव को लगा दिया ठिकाने

ट्रक ने कार को साइड से मारी जोरदार टक्कर
जानकारों ने बताया कि रात को इक्को कार  से पांचों  युवक घर से निकले थे। सभी परिवार से बोलकर गए थे कि बुधवार को वापिस घर आ जाएंगे। लेकिन देर रात जब अलीगढ़ हाईवे पर पहुँचे। अचानक उनकी कार को साइड से ट्रक ने टक्कर मार दी। बताया गया कि करन कार चला रहा था,उसके बराबर की सीट पर मनीष बैठा था,बाकी तीनों पिछली सीट पर बैठे थे। करन और मनीष की कार में फंसने से मौके पर ही मौत हो गई थी। जबकि राजकुमार के पैर में काफी चोट लगी थी। उसकी दिल्ली  के ट्रॉमा सेंटर ले जाते हुए बुधवार रात को मौत हो गई थी। जबकिं यादेश के सर में चोट लगी। बिट्टू को हल्की सी चोट  लगी थी। जानकारों ने बताया कि कार की पिछली सीट पर बैठे बिट्टू ने परिवार और दोस्तों को रात को हादसे की जानकारी दी थी। सभी उसी वक्त अपने वाहनो से कुछ ही घंटे बाद मौके पर पहुँच गए थे। अलीगढ़ पुलिस ने मौके पर पहुँचकर राजकुमार और यादेश को नजदीक के अस्पताल में भर्ती करवाया था। यादेश और बिट्टू को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी थी। जबकिं राजकुमार की हालत गंभीर बताई थी। पुलिस ने मनीष और करण के शवों को बुधवार शाम को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप  दिया था। जबकिं राजकुमार को ट्रॉमा सेंटर के लिए रेफर कर दिया था। जानकारों ने बताया कि जब दोनो शवों को श्मशान घाट ला रहे थे। उसी बीच खबर आई कि रास्ते मे राजकुमार की भी मौत हो गई है। वह पैरों के दर्द को बर्दाश्त नही कर पाया था।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.