Monday, Jan 21, 2019

जैसलमेर: सामने आई अस्पताल प्रशासन की लापरवाही, डिलिवरी के दौरान गर्भ में छोड़ा नवजात का सिर

  • Updated on 1/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राजस्थान के जैसलमेर से एक खौफनाक घटना सामने आई है। जिले के रामगढ़ में एक गर्भवती  महिला की डिलिवरी कराते समय डॉक्टरों ने नवजात को पैरों की ओर से इस तरह से खींचा कि उसका आधा शरीर गर्भ के अंदर और आधा गर्भ से बाहर आ गया।

यह मामला जैसलमेर के रामगढ़ जिले का है,जहां एक महिला को डिलिवरी  के दौरान इस घटना का शिकार होना पड़ा। अस्पताल के कर्मचारियों और डॉक्टरों ने पीड़ित महिला के परिजनों बिना इस घटना के बारे में बताए उसे जैसलमेर रेफर कर दिया गया। इसके बाद महिला को जोधपुर रेफर किया गया जहां गर्भ से बच्चें के आधे शरीर को निकाल लिया गया। 

पुलिस ने धरा 2 हजार लोगों से ठगी करने वाला शातिर, प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर लगाया चूना

जानकारी के मुताबिक, यह मामला इस हफ्ते की शुरुआत में घटा थी। इस पूरी घटना के दौरान कम्पाउंडर अमृतराम ड्यूटी पर मौजूद था। उसने महिला को प्रसव कराने की कोशिश की। पहले बच्चे के पैर दिखे तो उसने इतना ताकत से साथ नवजात के पैर खींचे की उसका धड़ बाहर आ गया और सिर गर्भ में ही रह गया। उस मासूम के गर्भ में ही दो टुकड़े हो गए। 

इस बारे में जैसलमेर के जवाहर अस्पताल के डॉक्टर रविंद्र सांखला ने बताया कि रामगढ़ स्वास्थ्य केंद्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रसव हो चुका है, साथ ही परिवार ने यह नहीं बताया था कि बच्चे को सिर गर्भ के अंदर रह गया है। उसकी जांच करने पर पाया कि गर्भनाल सख्त है जिसके बाद उसे जोधपुर रेफर  कर दिया गया।

ओवरलोड ऑटो में कूड़े के डंपर ने मारी टक्कर, एक की मौत, चार घायल

वहीं जब जोधपुर के उम्मेद अस्पताल में जब पीड़ित महिला को लेकर उसके परिजन पहुंचे तो यहां डॉक्टरों ने प्रसव का एक बार और प्रयास किया, जिसमें बच्चे का सिर ही निकला। 

इसके बाद परिजन बच्चे का सिर लेकर रामगढ़ थाने में पहुंचे और पुलिस को इस मामले की जानकारी दा। पुलिस ने मामले में दखल दिया तो अस्पताल कर्मियों ने बच्चे का धड़ पुलिस को सौंप दिया। महिला के पति त्रिलोकसिंह ने मामला दर्ज करवा दिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

रामलीला मैदान के आसपास संभलकर निकलें, दो दिन के लिए ये मार्ग रहेंगे बंद

इस मामले पर राजस्थान राज्य मानवाधिकार आयोग ने संज्ञान लेते हुए जैसलमेर एसपी और सीएमएचओ से एक रिपोर्ट भी मांगी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.