Friday, Jan 21, 2022
-->
hi-tech-drug-smugglers-asking-for-drugs-from-dark-net-payment-from-bitcoin

हाईटेक हुए ड्रग तस्कर, डार्क नेट से मंगा रहे ड्रग, बिटकाइन से पेमेंट 

  • Updated on 11/11/2021

हाईटेक हुए ड्रग तस्कर, डार्क नेट से मंगा रहे ड्रग, बिटकाइन से पेमेंट 
 

नई दिल्ली, पंकज वशिष्ठ। इंटरनेट पर डार्कनेट के जरिये विदेश से ड्रग्स तस्करी करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया है। तस्करों की निशानदेही पर पुलिस ने  डार्कनेट के जरिए कनाडा से मंगाया गया 1800 ग्राम गांजा बरामद किया गया है। इसकी पेमेंट कनाडा में बिटकाइन से की गई थी। क्राइम ब्रांच की टीम इस गिरोह से जुड़े अन्य लोगों की तलाश कर रही है।

संयुक्त आयुक्त (अपराध) आलोक कुमार के मुताबिक, क्राइम ब्रांच की विशेष टीम ड्रग्स तस्करी करने वाले गिरोह को लेकर जानकारी जुटा रही थी। सूचना मिली कि पश्चििमी दिल्ली में कुछ नशा तस्कर डार्कनेट के जरिये विदेश से ड्रग्स मंगवा रहे हैं। 

जानकारी के आधार पर एसीपी अरविंद कुमार की देखरेख में इंस्पेक्टर दाता राम के नेतृत्व में गठित टीम ने शालीमार बाग इलाके में छापेमारी कर पश्चिम विहार निवासी करण सजनानी, संजीव मिड्ढा और विकासपुरी निवासी प्रियांश को गिरफ्तार किया है। इनके पास से 1800 ग्राम गांजा बरामद हुआ है। संजीव विकासपुरी थाने का घोषित बदमाश है।

पूछताछ में आरोपियो ने खुलासा किया कि उन्होंने विकर एप पर कनाडा में नशा तस्कर से डील की। इस एप पर चैट तीन दिन में अपने आप ही नष्ट हो जाती है। इसके बाद गांजे की डील करने के लिए डार्कनेट के जरिये कनाडा में डील की। 
संयुक्त आयुक्त ने बताया कि डार्कनेट पर 50 से 60 आनलाइन मास्क लेयर के पीछे आइपी एड्रेस होता है। इसकी वजह से जांच एजेंसी के लिए भी आरोपितों को पकडऩा आसान नहीं होता।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि गांजा कनाडा से दिल्ली हवाई मार्ग से पहुंचाया गया था। इसके लिए कनाडा के तस्करों ने विशेष प्रकार से एयर टाइट पैकिंग की थी। इससे ड्रग किसी भी स्कैनर की पकड़ में नहीं आती है।
 

आखिर क्या है डार्कनेट
इंटरनेट की दुनियां में डार्कनेट एक ऐसा माध्यम है, जहां तमात तरह की अवैध गतिविधियों को अंजाम दिया जाता है। यहां पर ड्रग्स बेचने के साथ ही किसी को ब्लैकमेल करने की वारदात भी अंजाम दी जाती है। यह गूगल या किसी अन्य सर्च इंजन के माध्यम से नहीं चलता और किसी सर्वर पर भी नहीं होता। इसका इस्तेमाल करने के लिए एक खास साफ्टवेयर की जरूरत होती है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.