Sunday, Dec 04, 2022
-->
high-tension-accident-the-next-day-after-immersion-of-ganesh-idol

गणेश प्रतिमा विसर्जन के अगले दिन हाईटेंशन हादसा, स्नान के दौरान श्रद्धालुओं को लगे करंट के झटके

  • Updated on 9/10/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। गाजियाबाद के मुरादनगर में गंगनहर घाट के नजदीक गणेश प्रतिमा विसर्जन कार्यक्रम के अगले दिन यानी शनिवार को बड़ी आपदा टल गई। बिजली की हाईटेंशन लाइन अचानक टूटकर गिरने से हड़कंप मच गया। ऐसे में नहर में स्नान के दौरान करंट के झटके महसूस होने पर कुछ श्रद्धालुओं ने चिल्लाना शुरू कर दिया। 

माजरा समझ में आने पर मंदिर समिति के सदस्यों एवं श्रद्धालुओं में दहशत फैल गई। घटना की सूचना मिलने पर बिजली विभाग की टीम आनन-फानन में मौके पर पहुंची। नाराज श्रद्धालुओं की बिजली कर्मियों से नोक-झोंक तक हो गई। विभाग ने घटना की जांच कराए जाने की बात कही है। 

मुरादनगर गंगनहर में गणेश प्रतिमा का विसर्जन करने के लिए शुक्रवार को बड़ी तादात में श्रद्धालु पहुंचे थे। श्रद्धालुओं की सुविधा को ध्यान में रखकर काफी इंतजाम किए गए थे। प्रतिमा विसर्जन कार्यक्रम धूमधाम से संपन्न हो गया था। इसके अगले दिन यानी शनिवार को गंगनहर में प्रतिदिन की भांति अच्छी-खासी संख्या में श्रद्धालु स्नान करने पहुंचे थे। 

दोपहर में स्नान के वक्त कुछ श्रद्धालुओं को अचानक करंट के झटके महसूस होने लगे। जान आफत में आने पर उन्होंने मदद के लिए जोर-जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया। उन्हें चंद सेकेंड तक करंट महसूस हुआ। इसके बाद स्थिति सामान्य हो गई। दरअसल घाट के पास से गुजर रही हाईटेंशन लाइन टूटने यह स्थिति उत्पन्न हुई थी। 

यह लाइन टूटकर घाट किनारे खड़ी बाइक पर जा गिरी। इससे बाइक में भी आग लग गई। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि चंद सेकेंड तक टूटी तार में करंट प्रवाहित होता रहा। हाईटेंशन लाइन टूटने की जानकारी मिलने पर गंगनहर से आनन-फानन में तमाम श्रद्धालु बाहर निकल आए। 

सूचना पाकर मौके पर पहुंची बिजली विभाग की टीम ने टूटी तार को जोड़ने का काम आरंभ कर दिया। ऐसे में श्रद्धालुओं की कर्मचारियों से बहस तक हो गई। विभाग ने हाईटेंशन लाइन टूटने की वजह जानने को जांच कराने की बात कही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.