Sunday, May 22, 2022
-->
illegal-liquor-business-is-on-the-rise-in-slums-swati-maliwal

झुग्गी-झोपडी में लगातार बढ रहा है अवैध शराब व्यवसाय: स्वाति मालीवाल

  • Updated on 1/28/2022

नई दिल्ली। अनामिका सिंह। मैंने जब पूरी दिल्ली में पदयात्रा की तो उस दौरान झुग्गी-झोपडी इलाकों में अवैध शराब माफियाओं के फेलते जाल को देखा। ये लोग पूरी-पूरी रात अवैध तरीके से शराब बेचते हैं और शराब पीकर नशा करने वाले अगल-बगल रहने वाले लोगों के घरों में धूस जाते हैं, जिसकी शिकायत हमसे एक छोटी बच्ची ने की थी। उसने बताया कि किस तरह नशाखोरी करने वाले लोग बच्चियों व महिलाओं के साथ बदतमीजी करते हैं और ये एक प्रमुख वजह है दिल्ली में महिलाओं व बच्चियों के साथ यौन उत्पीडन के मामले लगातार बढते चलेे जा रहे हैं। उक्त बातें दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने नवोदय टाइम्स से विशेष बातचीत के दौरान कहीं।
अब पढें गुमनाम महिला स्वतंत्रता सेनानियों की कहानियां

10 सालों में बढी शराब माफियाओं की अधिक मनमानी
स्वाति मालीवाल ने बातचीत के दौरान कहा कि बीते 10 सालों में अवैध शराब माफियाओं की मनमानी काफी बढ गई है। हमारी एक शिकायतकर्ता को भी शराब माफियाओं ने कुछ साल पहले घर से निकालकर गली में धूमाया था और जानलेवा हमला उस पर किया गया था। उसकी गलती सिर्फ इतनी थी कि उसने इन शराब माफियाओं के खिलाफ आवाज उठाई थी। कस्तूरबा नगर में हुई घटना पर लोगों ने कहा कि शराब माफिया से इस मामले का कोई लेना-देना नहीं है लेकिन ये बिल्कुल गलत है क्योंकि अगर दिल्ली पुलिस उन क्रिमिनल लोगों को रेगुलर बेस पर क्राईम करने पर सजा देती तो एक लडकी की इज्जत कस्तूरबा नगर की गलियों में तार-तार नहीं होती। 
केंद्र सरकार के खाद्य विभाग ने की दिल्ली के राशन में 50 हजार क्विंटल की कटौती

दिल्ली पुलिस के दो चेहरे हैं
स्वाति कहती हैं कि दिल्ली पुलिस के दो चेहरे हैं। पहला वो जो लोकल थानों में काम करने वाले पुलिसकर्मी हैं जो रिश्वत लेकर अवैध शराब माफियाओं को फलने-फूलने का अवसर देते हैं। दूसरे वो दिल्ली पुलिस के जवान हैं जो लडने की कोशिश करते हैं और शराब माफियाओं के हत्थे चढकर अपनी जान गवां बैठते है। जैसा कि कस्तूरबा नगर में हो चुका है, जहां शराब माफियाओं के खिलाफ आवाज उठाने पर एक जवान को अपनी जान से हाथ धोना पडा था। 
गैंगरेप और फिर गंजा कर सडक पर धूमाने वालों पर हो कार्रवाई: स्वाति मालीवाल

दिल्ली पुलिस को आर्गनाइज्ड होने की जरूरत
स्वाति का मानना है कि दिल्ली पुलिस को आर्गनाइज्ड होने की जरूरत है। यदि दिल्ली पुलिस आर्गनाइज्ड होकर अवैध शराब माफियाओं के खिलाफ अभियान चलाती है तो खुद-ब-खुद क्राइम का ग्राॅफ सुधरेगा और यौन उत्पीडन व महिलाओं के साथ होने वाले घरेलू हिंसा मामलों में सुधार आएगा। उन्होंने कहा कि हमने खुद कई बार अचानक निरीक्षण कर अवैध शराब के धंधे का पर्दाफाश किया है। 
लालकिला का विजिटर सेंटर, सुनाएगा देश की गरिमामयी ऐतिहासिक कहानी

आयोग महिलाओं का अंधा सपोर्ट नहीं करता
स्वाति ने कहा कि बतौर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा होने के नाते में साफ कर देना चाहती हूं कि हम महिलाओं का अंधा सपोर्ट नहीं करते। इसीलिए उन एक-एक महिलाओं के खिलाफ हम सख्त एक्शन करवाने का प्रयास करेंगे जिन्होंने कस्तूरबा नगर में रेप के लिए उकसाया। हमारे वकील इस मामले में कोर्ट में हाजिर होंगे और फास्ट ट्रैक कोर्ट के जरिए कम समय में पीडिता को न्याय दिलवाया जाएगा।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.