Thursday, Feb 22, 2018

धर्म के नाम पर पाकिस्तानी बहनों ने की हत्या, कहा-नहीं है कोई अफसोस

  • Updated on 4/21/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में तीन बुर्कानशीन बहनों ने धर्म के नाम पर13 साल पुराने एक मामले में संदिग्ध 50 वर्षीय व्यक्ति की कथित रूप से गोली मार कर हत्या कर दी।

अमेरिका में मुस्लिम विरोधी घृणा अपराध काफी बढ़े

घटना लाहौर से करीब 180 किलोमीटर दूर पसरूर तहसील के नांगल मिर्जा गांव की है। पुलिस के अनुसार, बुर्कानशीन तीन बहनें अफसाना, अनमा और रजिया, अपनी परेशानियों के हल के लिए मजहर हुसैन सैयद के घर उनका आशीर्वाद लेने गयी थीं। पसरूर के थाना प्रभारी सईद हिंजरा ने कहा कि उनका अशीर्वाद लेने के बाद महिलाओं ने उनसे कहा कि वह अपने बेटे फजल अब्बास को बुला दें, क्योंकि उनमें से एक उनकी छात्रा रह चुकी है और उनसे मिलना चाहती है। अब्बास हाल ही में बेल्जियम से लौटे थे। अब्बास जैसे ही कमरे में आया महिलाओं ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं, उनकी मौके पर ही मौत हो गयी। महिलाओं ने अपने बुर्के के नीचे पिस्तौलें छिपाई हुई थीं।

पेरिस में बंदूकधारी की गोलीबारी में एक पुलिसकर्मी की मौत, ISIS ने ली जिम्मेदारी

हिंजरा ने कहा कि हमने तीनों महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया है। तीनों ने पुलिस से कहा कि उन्होंने एक ईशनिंदक की हत्या की है। उन्हें इसका कोई पश्चताप नहीं है। महिलाओं में से एक करीब 13 साल पहले पीड़ित की छात्रा थी, जब उन्होंने कथित रूप से ईशनिंदा की थी।

थाना प्रभारी ने कहा कि पुलिस महिलाओं से पूछताछ कर यह जानने का प्रयास कर रही है कि अब्बास की हत्या के पीछे कोई अन्य कारण तो नहीं। हिंजरा ने कहा कि यह बहुत आश्चर्यजनक है कि कैसे तीन बहनों ने 13 साल पुराने मामले पर इतना बड़ा कदम उठाया है। हम कुछ स्थानीय धर्मगुरूओं की भूमिका की भी जांच कर रहे हैं।

पानामा केस: इमरान खान ने शरीफ के इस्तीफे की मांग की

थाना प्रभारी ने आरोपियों में से एक के हवाले से कहा कि हम 13 साल पहले अब्बास को नहीं मार सकीं, क्योंकि हम बहुत छोटी थीं। उन्होंने कहा कि अब्बास के खिलाफ 2004 में ईशनिंदा कानून के तहत मामला दर्ज हुआ था। स्थानीय धर्मगुरूओं के गुस्से से बचने के लिए अब्बास बेल्जियम चले गये थे। वह हाल ही में वापस लौटे थे और स्थानीय अदालत से ईशनिंदा वाले मुकदमे में जमानत ली थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.