Tuesday, Nov 30, 2021
-->
including two minors absconding, robbing property paper worth 7.5 crores from business brothers

कारोबारी भाइयों से 7.5 करोड़ की प्रॉपर्टी पेपर लूट फरार दो नाबालिग समेत तीन पकड़े गये

  • Updated on 10/28/2021


कारोबारी भाइयों से 7.5 करोड़ की प्रॉपर्टी पेपर लूट फरार दो नाबालिग समेत तीन पकड़े गये 
होटल के अंदर बंधक बना लूट लिया था आठ हजार कैश,मांगे थे दो करोड़ की फिरौती
मुख्य आरोपी को डबल मर्डर मामले में मिली चुकी है उम्र कैद की सजा
कोरोना के बाद जेल से जमानत पर आया था बाहर 
नई दिल्ली:टीम डिजिटल: सीआर पार्क इलाके में प्रॉपर्टी खरीदने के बहाने होटल में एक कारोबारी व उसके भाई को गन प्वाइंट पर बंधक बना 7.5 करोड़ की प्रॉपर्टी पेपर और आठ हजार कैश लूट चार करोड़ की फिरौती मांगने के मामले में पुलिस ने दो नाबालिग समेत तीन बदमाशों को पकड़ा है। इसमें मुख्य आरोपी की पहचान द्वारका सेक्टर तीन निवासी विनय कुमार के तौर पर हुआ है। जबकि दोनों नाबालिग शालीमार बाग इलाके में रहने वाले हैं। उनके पास से वारदात में इस्तेमाल दो पिस्टल, दो चाकू,लूटे गये कागजात,लूट के आठ हजार नकदी और आठ हजार नकदी बरामद हुआ है।
डीसीपी बेनिता मेरी जेकर ने बताया कि  25 अक्तूबर को सीआर पार्क पुलिस को गन प्वाइंट पर नकदी और प्रॉपर्टी के कागजात लूटने की कॉल मिली थी। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस टीम को पीडि़त कारोबारी प्रशांत गुप्ता और उनका भाई होटल में मिले। उन्होंने बताया कि उन्होंने समाचार पत्र में सीआर पार्क में अपनी संपत्ति बेचने के लिए एक विज्ञापन प्रकाशित किया था। तब विनय कुमार ने उससे मोबाइल फोन पर संपर्क किया और 7.5 करोड़ रुपये पर प्रॉपर्टी का सौदा तय हुआ। उसके बाद 25 अक्तूबर को शिकायतकर्ता कारोबारी और बदमाशों के बीच होटल में मिलने की बात तय हुई। वहां पर आरोपी विनय अपने दो नाबालिग साथियों के साथ होटल के कमरे में आये। कमरे में आते ही तीनों ने पिस्टल और चाकू निकाल कर दोनों भाइयों को रस्सी से बंधक बना लिया। फिर प्रॉपर्टी के कागजात और 8 हजार रुपये लूट लिया। फिर जान से मारने की धमकी देते हुये। दो दिन के अंदर चार करेाड़ की फिरौती देने की धमकी दी। यहीं नहीं लूटे गये दस्तावेज पर बदमाशों ने जबरन हस्ताक्षार भी करवायें। पीडि़त कारोबारी के शिकायत पर आईपीसी की धारा 384/392/397/34 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की गई। मामले को सुलझाने के लि एसीपी मनु हिमांशु के देखरेख व एसएचओ वेद प्रकाश के नेतृत्व में टीम बनाई गई। जांच के दौरान सीसीटीवी में कैद फुटेज की जांच की गई। तकनीकी निगरानी की मदद की गई तो आरोपी विनय के पहचान हुई।
बॉक्स 
पुलिस से बचने के लिए बदल रहा था लगातार अपना ठिकाना
जांच में पता चला कि विनय को रोहिणी में डबल मर्डर मामले उम्रकैद की सजा मिली है। लेकिन कोरोना के कारण अभी वह जमानत पर बाहर आया है। पुलिस से बचने के लिए विनय लगातार अपना ठिकाना बदल रहा था। जांच में यह भी पता चला कि वह दूसरे से मोबाइल लेकर बातचीत कर रहा है। इसी बीच पुलिस टीम को सूचना मिली कि विनय कुमार द्वारका कोर्ट में अपने नाम से लूटे गए संपत्ति के कागजात बनवाने के लिए आने वाला है। उसके बाद ट्रैप लगाकर उसे कोर्ट परिसर से गिरफ्तार कर लिया गया। उसके निशानदेही पर शालीमार बाग से दोनों नाबालिगों को भी पकड़ लिया गया। उनके पास से दो पिस्टल, 2 चाकू, चेहरा छिपाने के लिए कपड़ा,लूट के आठ हजार कैश,प्रॉपर्टी के कागजात व वारदात में इस्तेमाल स्कूटी भी बरामद कर लिया गया। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.