दुनिया में वन्य जीवों की स्मगलिंग और हत्या के मामले में भारत पहले स्थान पर

  • Updated on 12/5/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत दुनिया में वन्य जीवों की स्मगलिंग के मामले में सबसे आगे है। यह चौैकाने वाला खुलासा हाल ही में किए गए एक सर्वे में सामने आया है। वन्य जीवों की हत्या और कालाबाजारी के मामले लगातार देश में बढ़ते जा रहे हैं। भारत में वन्य जीवों की सुरक्षा के लिए बनाए गए कानूनों का कितना पालन हो रहा है इस रिपोर्ट से सब सामने आ गया है।

दरअसल, वन्य जीवों की हत्या और कालाबाजारी रोकने के लिए गांव रायपुर में दो दिन का प्रशिक्षण कैंप लगाया गया। इस मौके पर वाइल्ड लाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो के डीआईजी आरएस चैधरी भी पहुंचे। कैंप में विशेषज्ञों ने ऐसे लोगों की पहचान करने का भी आह्वान किया जो जीव जंतुओं का धंधा कर रहे हैं इसके साथ साथ कानून की जानकारी भी दी।

बुलंदशहर हिंसा: FIR में 10 साल के बच्चों के नाम शामिल, पिता ने लगाए पुलिस पर आरोप 

बुधवार से सोहना के गांव रायपुर में स्थित वन विभाग के ट्रेेंनिंग केन्द्र पर वाइल्ड लाइफ, फाॅरेस्ट व पुलिस का दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आरंभ हुआ। जिसमें वाइल्ड लाइफ, फाॅरेस्ट और पुलिस आए उच्चाधिकारियों ने भाग लिया। देहरादून से साइंनटिस्ट एसपी गोयल, लखनऊ से अधिवक्ता सुरेश चंद यादव और वाइल्ड लाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो के डीआईजी आरएस चैधरी ने भाग लिया। 

आरएस चैधरी ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आज वन्य प्राणियों की कालाबाजारी का बाजार फलफूल रहा है। चैधरी के मुताबिक चीन, जापान, मलेशिया, दक्षिण अरब, बेलजियम आदि देशों में भारत से वन्य प्राणियों का युद्व स्तर पर कालाबाजारी की जा रही है। जो अंतरराष्ट्रीय मूल्य से दस गुणा हो रहा है। जिसे रोकने के लिए हम सबको को एक होना होगा। 

सबसे उम्रदराज, सुपरहिट यू-ट्यूबर शेफ मस्तानम्मा का हुआ निधन, इतने लाख हैं चैनल के सब्सक्राइबर

उन्होंने कहा कि वन्य प्राणियों को बेचने के साथ-साथ उनकी हत्याएं हो रही हैं। ऐसे अपराधियों पर अंकुश लगाना होगा। ताकि ऐसे अपराधियों को अदालत में ले जाकर कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जा सके। उन्होने कहा कि आज कानून सबूत मांगता है। अपराधी के खिलाफ सबूत जुटाने से लेकर वन्य प्राणियों की बढ़ती संख्यां को कम करने वाले अपराधी की पहचान करनी होगी। वन्य प्राणियों का जीवन सुरक्षित करने के लिए हम सब को आगे आना होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.