Monday, Dec 06, 2021
-->
indian army tank will be installed at the metro station

मेट्रो स्टेशन पर लगेगा भारतीय सेना का टैंक, बढ़ेगी शहर की शान

  • Updated on 11/25/2021

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। गाजियाबाद में जल्द मेट्रो स्टेशन पर भारतीय सेना का टैंक स्थापित किया जाएगा। इसके लिए शहीद स्थल मेट्रो स्टेशन का चयन किया गया है। नगर निगम को भारतीय सेना टैंक टी-55 विजय स्मारक निशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है। यह टैंक शहर की भी शान बढ़ाएगा। प्रतिदिन कई लाख नागरिक इस टैंक को देख सकेंगे। अगले 10 से 15 दिनों के भीतर विजय स्मारक के रूप में यह टैंक स्थापित कर दिया जाएगा। नगरायुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने गुरुवार को मेट्रो स्टेशन पर संबंधित स्थल का जायजा लिया।

नगरायुक्त ने मातहतों को जरूरी दिशा-निर्देश दिए हैं। केंद्रीय सड़क परिवहन राजमार्ग एवं नगर विमानन राज्य मंत्री एवं सांसद वीके सिंह के सहयोग से भारतीय सेना का यह टैंक गाजियाबाद को मिल रहा है। शहीद स्थल मेट्रो स्टेशन के पास यह टैंक स्थापित करने को जगह का चयन कर लिया गया है। नगरायुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने गुरुवार को संबंधित स्थल का निरीक्षण किया। वहां टैंक की स्थापना के संदर्भ में मातहतों के साथ विचार-विमर्श किया गया। नगरायुक्त तंवर ने बताया कि अगले 10 से 15 दिन में टी-55 टैंक विजय स्मारक के रूप में गाजियाबाद में स्थापित कर दिया जाएगा। शहर के नागरिकों के लिए यह एक अमूल्य धरोहर के रूप में रहेगा।

महापौर आशा शर्मा का कहना है कि शहर में शहीदों के सम्मान को बढ़ाने को विजय स्मारक टी-55 टैंक निशुल्क उपलब्ध कराया गया है। इसमें केंद्रीय राज्य मंत्री वीके सिंह का विशेष सहयोग रहा है। इस विजय स्मारक से नागरिकों में देश के प्रति एक सकारात्मक व समर्पित भावना कायम रहेगी। नगरायुक्त के अलावा केंद्रीय राज्य मंत्री के कार्यालय से कुलदीप तथा देवेंद्र कुमार के अलावा अवर अभियंता (निर्माण) योगेश कुमार आदि भी मौजूद रहे। बता दें कि इस मेट्रो स्टेशन को शहीद स्थल का नाम दिलाने के लिए भी शहर में मुहिम छेड़ी गई थी। दरअसल नया बस अड्डा के पास पूर्व में शहीद स्मारक स्थापित था, जिसे मेट्रो स्टेशन के कारण दूसरी जगह स्थापित करना पड़ा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.