पूर्व भारतीय क्रिकेटर पर हॉकी स्टिक से हुआ जानलेवा हमला, हालत गंभीर

  • Updated on 2/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत के पूर्व तेज गेंदबाज और डीडीसीए सीनियर चयन समिति के अध्यक्ष अमित भंडारी पर अंडर 23 टीम के ट्रायल के दौरान सोमवार को करीब 10 से 15 अज्ञात युवकों ने हमला कर दिया। 

भंडारी को सिर और कान में चोटें आई है और उन्हें उनके साथी सुखविंदर सिंह सिविल लाइंस स्थित संत परमानंद अस्पताल ले गए। वहीं, डीसीपी (नॉर्थ) नुपुर प्रसाद ने बताया कि अज्ञात हमलावरों के खिलाफ कश्मीरी गेट थाने में गैर इरादतन हत्या एवं धमकी आदि देने की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है। साथ ही मुख्य आरोपी अनुज डेढ़ा को हिरासत में ले लिया गया है। जबकि पुलिस घटना स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही है। 

1 रुपए की फिल्म से लेकर अमिताभ का करियर संवारने तक कुछ ऐसे निभाते थे प्राण यारों से यारी

दोषियों को छोड़ा नहीं जाएगा...
उधर, दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ के अध्यक्ष रजत शर्मा ने प्रेस ट्रस्ट से कहा कि दोषियों को छोड़ा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि हम घटना का ब्यौरा ले रहे हैं। जहां तक मुझे पता चला है कि यह एक बाहर किए गए खिलाड़ी का काम है जिसे राष्ट्रीय अंडर 23 टूर्नामेंट के लिए संभावित खिलाडिय़ों में नहीं रखा गया। जबकि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। जो भी इस घटना में शामिल है, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

दिल्ली के सीनियर और अंडर 23 मैनेजर शंकर सैनी ने बताया कि मैं टेंट के भीतर एक साथी के साथ खाना खा रहा था। भंडारी और अन्य चयनकर्ता सीनियर टीम के कोच मिथुन मन्हास के साथ ट्रायल मैच देख रहे थे। उन्होंने बताया कि दो लोग आये और भंडारी के पास गए। उनकी भंडारी से तीखी बहस हुई और वे तुरंत चले गए। इसके बाद 15 लोग हॉकी स्टिक, लोहे की छड़े और साइकिल की चेन लेकर आये।

गोली मारने की भी दी धमकी...
उन्होंने कहा कि ट्रायल में भाग ले रहे लड़के और हम भंडारी को बचाने दौड़े। उन्होंने हमको भी धमकी दी और कहा कि इसमें ना पड़ो वरना गोली मार देंगे। उन्हें भंडारी को हॉकी स्टिक और छड़ों से मारा। उसे सिर में चोट लगी है। यह पूछने पर कि यह किसका काम हो सकता है, सैनी ने कहा कि मैं उस समय वहां नहीं था जब ये दोनों लड़के भंडारी के पास आये। 

4 साल केजरीवाल- तूफान सी हुंकार भर रेगिस्तान में मिराज जैसा रहा दिल्ली सरकार का सफर

ये था पूरा घटनाक्रम
पुलिस को दिए बयान में अमित भंडारी ने बताया कि सोमवार दोपहर करीब 1:00 बजे मोरी गेट स्थित सेंट स्टीफंस क्रिकेट ग्राउंड पर इन दिनों अंडर-23 सैय्यद मुश्ताक अली टी ट्वंटी क्रिकेट टूर्नामेंट के लिए दिल्ली टीम के चयन की प्रक्रिया चल रही थी। इस दौरान अनुज अपने भाई अमित और 10-15 लोगों के साथ ग्राउंड पर आया।

सभी के हाथ में हॉकी एवं बेसबाल के बैट थे। जबकि गुस्से में अनुज ने कहा कि मैंने उसका कैसे चयन नहीं किया। फिर करीब दस मिनट तक मारपीट करने के बाद हमलावर मौके से फरार हो गए।

इसके बाद जख्मी अमित भंडारी को उनके साथी सुखविंदर सिंह परमानंद अस्पताल में ले गए। जहां उनका इलाज चल रहा है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि जख्मी के सिर पर सात टांके आए हैं और कान पर भी चोट आई है। फिलहाल उन्हें डाक्टरों ने निगरानी में रखा हुआ है। 

नायडू के अनशन में पहुंचे दिव्यांग ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में हुआ ये खुलासा

हमेशा विवादों में रहा डीडीसीए
सूत्रों का कहना है कि यह स्थिति एक न एक होनी ही थी, क्योंकि जब से डीडीसीए के नये निजाम ने कार्यभार संभाला है, तभी से एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला चल रहा है।

यहीं नहीं चयनकर्ताओं पर भी अपने और पदाधिकारियों के चहेतो को टीम में स्थान दिलाने का आरोप लग रहें है। इसके पीछे का तर्क है कि डीडीसीए की विभिन्न टीमों में वैसे तो हर साल करीबन प्रत्येक टीम में 25 से 30 खिलाड़ी चुने जाते रह है। लेकिन इस बार अंडर 16, अंडर 19 और अंडर 23 जैसी टीमों में खिलाडियों की संख्या 40 से उपर चली गई।

उसके बावजूद टीमों का प्रदर्शन निम्न स्तर का रहा। जिसको लेकिन भी खिलाडियों और वहां के पदाधिकारियों में गुस्से का गुबार भरा हुआ है। यह गुबार आज स्टीफन कालेज मैदान पर देखने को मिला।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.