Sunday, Oct 17, 2021
-->
introduced-200-missing-people-to-the-family-so-far

अब तक 200 लापता लोगों को परिवार से मिलवाया

  • Updated on 9/16/2021

 
नई दिल्ली। टीम डिजिटल। दिल्ली पुलिस अभी तक सैंकड़ों लापता लोगों को उनके परिवार वालों से मिलवाकर उनकी खुशियां लौटाई है। इस बीच बाहरी उत्तरी जिला की एएचटीयू शाखा ने भी एक लापता लडक़े को उसके परिवार से मिलवाकर दो सौ लापता लोगों को मिलवाने का कीर्तिमान स्थापित किया है। लडक़ा पिता से किसी बात पर गुस्सा होकर उत्तर प्रदेश में फैक्टरी में नौकरी कर रहा था। पुलिस ने परिवार और लडक़े की कॉसलिंग भी की।

जिला पुलिस उपायुक्त राजीव रंजन ने बताया कि 31 अगस्त को समयपुर बादली थाने में राजा विहार इलाके में रहने वाली सुनीता देवी ने अपने बेटे अमित के लापता होने की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। शिकायतकर्ता ने बताया था कि उनका बेटा 29 अगस्त की दोपहर ढाई बजे अचानक घर से कहीं चला गया था,जो वापिस नहीं लौटा,जिसको तलाशने की काफी कोशिश की थी। पुलिस ने मामला दर्ज किया। लापता अमित को तलाशने की काफी कोशिश की गई। लेकिन वह नहीं मिला।

परिवार को बोलकर गए थे कल आ जाएंगे, लेकिन आई तीन लाशें

जींस बनाने की फैक्टरी में काम कर रहा था

मामला एएचटीयू शाखा को सौंपा गया। इंस्पेक्टर राकेश मालिक के निर्देशन में पुलिस टीम ने शिकायतकर्ता से अमित के बारे में जानने की कोशिश की। जांच टीम शिकायतकर्ता के घर पर पहुंची परन्तु वहां पर कोई नहीं मिला। आस पड़ोस के लोगों से पूछताछ की गई जिन्होने बतलाया कि लॉकडॉउन के दौरान ये लोग जिला बैगूसराय, बिहार चले गये है जो कभी कभार ही दिल्ली आते हैं। फोन पर सम्पर्क करने पर सुनीता देवी ने बतलाया कि उनका बेटा अभी तक घर नहीं आया है, परन्तु उत्तरप्रदेश के मुज्जफर नगर में मनसूरपुर में जींस बनाने की फैक्टरी में काम कर रहा है।

पूर्व पुजारी ने भाई के साथ युवक गला रेता,नाले में शव को लगा दिया ठिकाने

परिवार और लडक़े की कॉसलिंग भी की

कभी कभार ही अपने दादा से फोन पर बात करता है।  अमित से सम्पर्क किया गया,उसको थाना समयपुर बादली में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज होने के बारे में व कानूनी प्रकिया के बारे में बतलाया गया।  अमित और उसके माता पिता को थाने बुलाया गया। पूछताछ पर लडक़े अमित ने बतलाया कि स्वरुप नगर जींस की फैक्टरी में कम सैलरी मिलने पर व काम पर ना जाने को लेकर पापा से कहासुनी हो गई थी। गुस्से में आकर घर से चला गया और उसी फैक्टरी की दूसरी ब्रांच जो कि मनसुरपुर, जिला मुज्जफरनगर, उत्तर प्रदेश में  है, काम करने लगा और वहीं पर ही रह रहा था। वह लाकडाउन के दौरान दिल्ली नहीं आ सका था। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.