Wednesday, Oct 20, 2021
-->
invested in a scheme of just dial, if there was a loss, the student of b.tech became a car robber

जस्ट डायल की एक स्कीम में किया था निवेश, घाटा हुआ तो बीटेक का छात्र बना गया कार लुटेरा

  • Updated on 9/24/2021

नई दिल्ली, टीम डिजीटल: वह पढऩे में होशियार है। पलक झपकते ही कम्प्यूटर व मोबाइल हैक कर लेता है। भविष्य में उसने एक बड़ा हैकर बनने की तमन्ना दिल में पाल रखी थी लेकिन जस्ट डायल कंपनी में आई एक स्कीम में दोस्तों के कहने पर निवेश किया और लाखों का घाटा हो गया। इस घाटे को पूरा करने के लिए वह बीटेक का छात्र कार लुटेरा बना गया। जो अब नोएडा की थाना सेक्टर-58 पुलिस की गिरफ्त में अपने चार अन्य साथियों के साथ है। पुलिस ने उसके पास से चार दिन पहले लूटी गई बार व दो बाइक व मोबाइल फोन बरामद किया है।  पकड़े गए आरोपियों ने लूट के दौरान एक एयर पिस्टल, एक लाइटर पिस्टल व एक असली पिस्टल का इस्तेमाल किया था।

नोएडा जोन के एसीपी टू रजनीश वर्मा ने बताया कि चार दिन पहले गाजियाबाद में शक्ति खंड में रहने वाले विलास निर्मल सेक्टर 62 स्थित कंपनी में कार चलाते हैं। विलास बुधवार रात करीब 10 बजे कंपनी से ड्यूटी खत्म करने के बाद जब वह घर जा रहे थे तो रास्ते में सेक्टर 62 में डी पार्क के पास दो बाइक पर सवार पांच बदमाशों ने उन्हें रोककर बताया कि उनकी कार के बोनट से आवाज आ रही है। इस पर उन्होंने कार से उतर कर बोनट खोलने का प्रयास किया। इस दौरान बदमाशों ने उनसे कार की चाबी छीन ली और कार लूटकर मौके से फरार हो गए। पीडि़त की शिकायत पर कोतवाली सेक्टर 58 पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया था।
जांच के दौरान वीरवार रात 5 बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार तीन आरोपियों को नोएडा के सेक्टर 57 और दो आरोपियों के दिल्ली के गाजीपुर इलाके से गिरफ्तार किया गया है। इनकी पहचान दिल्ली शिवम, कार्तिक, युवराज विकास और काकू के रूप में हुई है। आरोपियों के पास से लूटी गई आई-20 कार, घटना में प्रयुक्त दो मोटरसाइकिल व मोबाइल फोन बरामद हुए हैं। आरोपी कार्तिक मथुरा रोड स्थित एक कॉलेज से इंजीनियरिंग  की पढ़ाई कर रहा है। जो कि अच्छा हैकर है। उसकी खोड़ा में मोबाइल शॉप भी है।

कुछ समय पहले जस्ट डायल कंपनी में करीब 7-8 लाख रुपये इन्वेस्ट करने के बाद उसे घाटा हो गया था। इसकी भरपाई करने के लिए उसने अपने साथियों के साथ मिलकर लूट की वारदात को अंजाम दिया है। वहीं युवराज की फेज थ्री क्षेत्र में दुकान है। जिसमें काकू भी काम करता है। जो कि लूट के मोबाइल खरीद फरोख्त का काम करता है। विकास जस्ट डायल कंपनी में नौकरी करता है। उसी ने जस्ट डायल कंपनी में आई एक स्कीम में निवेश कराया था। विकास पर करीब 6 वर्ष पूर्व आईपीसी की धारा 414 के अंतर्गत मुकदमा पंजीकृत है। बाकी आरोपियों के अपराधिक इतिहास का पता लगाया जा रहा है। 

comments

.
.
.
.
.