Friday, May 27, 2022
-->
ipl cricketer vikas tokas accuses policeman of punching him in the eye

आईपीएल क्रिकेटर विकास टोकस ने पुलिसकर्मी पर लगाया आंख पर घूंसा मारने का आरोप

  • Updated on 1/29/2022

आईपीएल क्रिकेटर विकास टोकस ने पुलिसकर्मी पर लगाया आंख पर घूंसा मारने का आरोप

- पुलिस ने पटाया 26 जनवरी को जांच के दौरान पुलिस कर्मियों से की थी बदतमीजी

 

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।

 

आईपीएल में आर सी बी का हिस्सा राह चुके क्रिकेटर ने दिल्ली पुलिस पर मारपीट व उनकी आंखों पर गंभीर चोट पहुंचाने का आरोप लगाया है। क्रिकेटर विकास टोकस ने इंटरनेट मीडिया को बताया है कि आरके पुरम थाना पुलिस ने उनसे बदसुलूकी की और चेहरे पर वार किया, जिससे उनकी आंख पर गंभीर चोट आई हैं। इस संदेश के साथ उनकी एक फोटो भी इंटरनेट मीडिया में वायरल हो रही है जिसमें उनकी एक आंख के नीचे काले रंग का चोट का निशान नजर आ रहा है।  

     इस घटना को लेकर शुक्रवार को दक्षिण-पश्चिमी जिले के डीसीपी गौरव शर्मा ने बताया कि मामला 26 जनवरी का है। उस दिन सुरक्षा अलर्ट के बीच पुलिस की टीमें सड़कों पर बैरिकेड लगाकर जांच कर रही थी। इस दौरान मोहम्मदपुर गांव में रहने वाले विकास टोकस अपनी कार से करीब 11.30 बजे पुलिस बैरिकेड के पास पहुंचे। सुरक्षा जांच के लिए रोके जाने पर वे काफी नाराज हो गए। गुस्से में पुलिसकर्मियों को खुद के 10 साल से नेशनल लेवल क्रिकेटर होने की बात कहते हुए जांच में सहयोग करने से इनकार कर दिया। 

     इस बीच जब मास्क नहीं पहनने को लेकर भी पुलिसक​र्मी ने उन्हें टोका तो विकास ने पुलिसकर्मी से बदसुलूकी शूरू कर दी। पुलिसकर्मियों ने उन्हें थाना चलने के लिए कहा तो वे अपनी कार लेकर वहां से गणतंत्र दिवस समारोह की ओर जाने का प्रयास करने लगे। पुलिस ने उन्हें रोकने का प्रयास किया तो वह धक्का मुक्की पर उतर आए, इसी दौरान  उनकी आंख के पास चोट लग गई। बाद में उन्हें थाने ले जाया गया जहां दिल्ली पुलिस से रिटायर्ड सबइंस्पेक्टर व विकास के ससुर भी पहुंचे। विकास टोकस व उनके ससुर ने इस बर्ताव के लिए लिखित रूप में माफी मांगी और थाने से चले गए। लेकिन अब वे इंटरनेट मीडिया के माध्यम से पुलिस पर गलत आरोप लगा रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.