Tuesday, Jun 28, 2022
-->
jammu-and-kashmir-kathua-rape-murder-case-pathankot-court-upholds-another-accused-is-adult

कठुआ कांड: पठानकोट कोर्ट ने एक और आरोपी को माना बालिग

  • Updated on 7/5/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कठुआ बलात्कार और हत्या मामले में पठानकोट जिला और सत्र कोर्ट ने एक और आरोपी को बालिग करार दे दिया है। कोर्ट ने आज उस आरोपी की मेडिकल रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया है, जिसने खुद के किशोर होने का दावा किया था। विशेष लोक अभियोजक जेके चोपड़ा ने कहा कि रिपोर्ट में आरोपी की उम्र 20 वर्ष से अधिक साबित हुई है। 

केजरीवाल सरकार पर NGT ने लगाया 50 हजार रुपये का जुर्माना

उन्होंने बताया कि बचाव पक्ष के वकील की याचिका को खारिज करते हुए जिला और सत्र न्यायाधीश ताजविंदर सिंह ने कहा कि आरेापी परवेश कुमार उर्फ 'मन्नू' को वयस्क ही माना जाएगा। चोपड़ा ने कहा कि कोर्ट ने उसकी याचिका को खारिज कर दिया और आरोपी को वयस्क करार दिया।

दिल्ली के अफसर नहीं दे रहे AAP सरकार का साथ, केजरीवाल ने की अपील

कुमार के वकील एके साहनी ने कोर्ट के बाहर मीडिया को बताया कि वे निचली अदालत के फैसले को जल्द ही सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देंगे। जम्मू कश्मीर पुलिस की क्राइम ब्रांच ने इस सप्ताह मेडिकल रिपोर्ट कोर्ट के सामने पेश की थी। 

अखिलेश-मुलायम अपनी करोड़ों की जमीन पर बनाएंगे गेस्ट हाउस और लाइब्रेरी

जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने क्राइम ब्रांच को निर्देश जारी किया था कि परवेश कुमार की उम्र का पता लगाने के लिए उसकी हड्डी से जुड़ी मेडिकल जांच की जाए। जम्मू कश्मीर के कठुआ जिले में जनवरी में 8 वर्षीय लड़की से जघन्य बलात्कार व हत्या मामले के 8 आरोपियों में कुमार भी शामिल है। 

महिला टी-20 टीम की कप्तान हरमनप्रीत पर गिरेगी गाज, फर्जी निकली डिग्री

आरोपी की उम्र के बारे में डॉक्टरों की राय पूछने पर चोपड़ा ने कहा, 'मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक उसकी उम्र 20 वर्ष से अधिक है।' एक अन्य आरोपी की उम्र के बारे में भी फैसला होना है, जो खुद के किशोर होने का दावा करता है। उसका मामला जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट में विचाराधीन है। 

BCCI का मसौदा संविधान: सुप्रीम कोर्ट ने राज्य क्रिकेट संघों के चुनाव पर लगाई रोक

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.