Wednesday, Jan 26, 2022
-->
know-who-is-the-mastermind-of-terror-funding-zahoor-ahmed-shah-vatali-sohsnt

जानें कौन है टेरर फंडिंग की दुनिया का मास्टरमाइंड जहूर अहमद शाह वटाली, कई मामलों में चल रही जांच

  • Updated on 12/3/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारतीय सीमाओं पर लगातार बढ़ती आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए सबसे जरूरी है टेरर फंडिंग (Terror Funding) को रोकना। ऐसे में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) जब भी आतंकियों के लिए होने वाली टेरर फंडिंग पर लगाम कसने के लिए कोई बड़ा कदम उठाती है तब हर बार जो पहला नाम सामने आता है वो है जहूर अहमद शाह वटाली(Zahoor Ahmad Shah Watali)। एनआइए की हिरासत में होने के बाद भी ये शख्स अक्सर चर्चा में किसी न किसी कारण से बना रहता है। 

कश्मीर में आग भड़काने के लिए Shehla Rashid को मिला था विदेशों से पैसा!

आतंकी गतिविधियों में लिप्त है जहूर अहमद शाह वटाली
दरअसल, जेएनयू (JNU) स्टूडेंट्स यूनियन की पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद (Shehla Rashid) पर उनके पिता अब्दुल रशीद (Abdul Rashid) शोरा ने बीते सोमवार को देश विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने का आरोप लगाया। पिता ने आरोप लगाया है कि कश्मीर में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को बढ़ाने के लिए उसे देश के बाहर से पैसा दिया गया है और इस पैसे को भेजने का जरिया कोई ओर नहीं बल्कि जहूर अहमद शाह वटाली है।

विवादों से रहा है शेहला रशीद का पुराना नाता, पिता ने भी कहा एंटीनेशनल, जानें कैसे हुई शुरूआत

कई देशों में रहा है वटाली का कारोबार
कश्मीर के व्यापारिक घराने में से जुड़े वटाली के कई देशों में कारोबार रहा है। वटाली पर आरोप है कि उसका संबंध पकिस्तानी नेताओं और वहां कि एजेंसियों से है। साल 2017 में कश्मीर टेरर फंडिंग मामले में एनआइए ने 12 लोगों को नामजद किया था। इन लोगों में 26/11 का मास्टरमाइंड हाफिज सईद का नाम भी शामिल था, एजेंसी ने कुल 10 लोगों को गिरफ्तार किया था जिनमें हाफिज सईद नहीं था, लेकिन सईद का करीबी कश्मीरी व्यापारी जहुर वटाली शामिल था।

शेहला रशीद की गिरफ्तारी को लेकर दिल्ली HC ने पुलिस को दिया ये आदेश

वटाली के घर से एनआइए को मिली कई संदिग्ध चीजें
एनआइए टीम द्वारा वटाली की गिरफ्तारी के बाद साल 2017 के जून महीने में इसके घर समेत कई ठिकानों पर रेड डाली गई। इस रेड में एजेंसी के हाथ कई संदिग्ध चीजें लगीं। वटाली के आतंकवादी संगठनों से किए गए वित्तीय लेनदेने के अलावा नगद धनराशि हवाला का पैसा, प्रापर्टी के कागज आदि प्राप्त हुए।  इसके अलावा साल 2019 में ईडी ने वटाली की 1.73 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की थी। 

दिल्ली दंगों से जुड़ी बंद पड़ी फाइल को खोलकर निष्पक्ष जांच का आदेश, कोर्ट ने सुनाया अहम फैसला

वटाली ने की 3 करोड़ रुपये की पेशकश
वहीं दूसरी ओर शेहला के पिता ने कहा है कि साल 2017 में उनकी बेटी अचानक से ही कश्मीर राजनीति में आई। पहले नैशनल कॉन्फ्रेंस और उसके पाद जेकेपीएम में वो शामिल हुईं। इतना ही नहीं टेरर फंडिंग मामले में पहले से गिरफ्तार इंजीनियर रशीद और जुहूर वटाली जैसे नेताओं ने उनकी बेटी को पार्टी में शामिल होने के लिए 3 करोड़ रुपये भी देने की पेशकश की। उन्होंने बताया कि जून 2017 में वटाली के घर पर उनको 3 नई पार्टी बनाकर उसमें शामिल होने के लिए 3 करोड़ रुपये की पेशकश की गई।

पढ़ें ये महत्वपूर्ण खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.