Monday, May 23, 2022
-->
lost-eyesight-due-to-burning-of-crackers-on-diwali-the-punishment-remained-intact-

दिवाली पर पटाखा जलाने से गई थी आंख की रोशनी,सजा बरकरार  

  • Updated on 11/17/2021

दिवाली पर पटाखा जलाने से गई थी आंख की रोशनी,सजा बरकरार  
नई दिल्ली, टीम डिजिटल। दिल्ली के एक सत्र न्यायालय ने दिवाली के मौके पर लापरवाही से पटाखा जलाकर एक व्यक्ति की आंख को स्थायी रूप से नुकसान पहुंचाने के आरोप में एक व्यक्ति को दोषी ठहराए जाने का आदेश बरकरार रखा और उसे छह महीने की सजा भुगतने के लिए जेल भेज दिया।      

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि दोषी नवीन कुमार ने तीन नवंबर, 2013 को दिवाली के अवसर पर लापरवाही से रॉकेट जलाया और उस बोतल को लात मारी जिसमें रॉकेट था। इसके कारण रॉकेट शिकायतकर्ता की दाहिनी आंख में लगा जिससे हमेशा के लिए उसकी आंख की रोशनी चली गई।       

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश पूरन चंद ने 2019 में मजिस्ट्रेट द्वारा दिया गया आदेश बरकरार रखा जिसमें कुमार को छह महीने जेल की सजा सुनाई गई थी। आरोपी ने निचली अदालत के 2019 के आदेश को चुनौती देते हुए सत्र अदालत में कहा था कि निचली अदालत ने अनुमान के आधार पर सजा सुनाई और नैर्सिगक न्याय के सिद्धांत का पालन नहीं किया।       

न्यायाधीश ने दोषी की अपील खारिज करते हुए कहा कि निचली अदालत ने आरोपी को दोषी ठहराने में कोई गलती नहीं की। अदालत ने दोषी को हिरासत में लेकर जेल भेजने का आदेश दिया ताकि वह सजा काट सके। अदालत ने 16 नवंबर को दिए आदेश में दोषी को सजा भुगतने के लिए जेल भेज दिया। घटना तीन नवंबर 2019 को दिल्ली के निलोठी इलाके में हुई थी जब शिकायतकर्ता अपने घर के बाहर खड़ा था।  
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.