Thursday, Aug 13, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 12

Last Updated: Wed Aug 12 2020 10:08 PM

corona virus

Total Cases

2,376,717

Recovered

1,677,599

Deaths

46,779

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA535,601
  • TAMIL NADU314,520
  • ANDHRA PRADESH254,146
  • KARNATAKA196,494
  • NEW DELHI148,504
  • UTTAR PRADESH136,238
  • WEST BENGAL104,326
  • BIHAR90,553
  • TELANGANA84,544
  • GUJARAT74,390
  • ASSAM61,738
  • RAJASTHAN55,482
  • ODISHA50,672
  • HARYANA43,227
  • MADHYA PRADESH40,734
  • KERALA34,331
  • JAMMU & KASHMIR24,897
  • PUNJAB23,903
  • JHARKHAND18,156
  • CHHATTISGARH12,148
  • UTTARAKHAND9,732
  • GOA8,712
  • TRIPURA6,497
  • PUDUCHERRY5,382
  • MANIPUR3,753
  • HIMACHAL PRADESH3,536
  • NAGALAND2,781
  • ARUNACHAL PRADESH2,155
  • LADAKH1,688
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,555
  • CHANDIGARH1,515
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS1,490
  • MEGHALAYA1,062
  • SIKKIM866
  • DAMAN AND DIU838
  • MIZORAM620
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
Mahakaal temple guard caught Vikas Dubey UP Haryana police bare hand rkdsnt

जिस विकास दूबे को यूपी-हरियाणा की पुलिस नहीं पकड़ सकी उसे महाकाल के गार्ड ने पकड़ा

  • Updated on 7/9/2020


नई दिल्ली/लखनऊ/भोपाल/ब्यूरो। सुनने में थोड़ा आश्चर्यजनक और अविश्वसनीय, मगर यही सच है कि जिस विकास दूबे को बीते सात दिनों से यूपी एसटीएफ समेत कई राज्यों की पुलिस नहीं ढूढ़ सकी, उसे उज्जैन के महाकाल मंदिर के सुरक्षा गार्ड ने धर दबोचा। कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपी और कुख्यात अपराधी विकास दूबे को पुलिस ने वीरवार को सुबह सुरक्षा गार्ड की सूचना पर महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया। यह विकास दूबे का सरेंडर था या गिरफ्तारी, इस पर सवाल उठ रहे हैं। 

विकास दुबे प्रकरण के बीच यूपी में फिर लागू हुआ कोरोना लॉकडाउन

फिलहाल 10 घंटे की पूछताछ के बाद मध्य प्रदेश पुलिस ने उसे अब यूपी पुलिस को सौंप दिया है। यूपी में हत्या, लूट, डकैती और फिरौती जैसे 60 से ज्यादा संगीन अपराधों में लिप्त रहे विकास दूबे की इतनी सहज गिरफ्तारी न केवल संदेहों के दायरे में है, बल्कि सियासी गरमी भी बढ़ा दी है। विरोधी दलों ने विकास की गिरफ्तारी को उसका सरेंडर और यूपी पुलिस की नाकामी बता रहे हैं। बीते वीरवार की देर रात कानपुर के चौबेपुर इलाके के बिकरू गांव में विकास दूबे को गिरफ्तार करने गए पुलिस दल पर दूबे और उसके साथियों ने गोलियां बरसाई थी, जिसमें एक पुलिस उपाधीक्षक समेत आठ पुलिसकर्मी मारे गए थे। 

उज्जैन पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस कर विकास दूबे मामले पर अपना रुख किया साफ

इस घटना के बाद से उत्तर प्रदेश पुलिस की चालीस से ज्यादा टीमें विकास दूबे की तलाश कर रही थीं। इसमें छह टीमें यूपी एसटीएफ की थीं। यह वही एसटीएफ है जिसने श्रीप्रकाश शुक्ल, निर्भय गुज्जर और ददुआ जैसे दुर्दांतों का सफाया किया, उसे सात दिनों में विकास दूबे की झलक तो छोड़िए, सुराग तक नहीं मिला था। जबकि कुछ रिपोर्ट के मुताबिक विकास दूबे बिकरू कांड के बाद फरार होकर 5 और 6 जुलाई को नोएडा में रहा, 7 जुलाई को फरीदाबाद में रुका और 8 जुलाई को कोटा में, जहां से वीरवार की सुबह वह उज्जैन के महाकाल मंदिर पहुंचा। भगवान शिव के दर्शन किए और फिर मंदिर परिसर से मध्य प्रदेश पुलिस ने उसे सुरक्षा गार्ड की सूचना पर गिरफ्तार कर लिया।

विकास दुबे के संरक्षकों को भी जल्द सख्त सजा दिलाए यूपी सरकार : मायावती


उसकी गिरफ्तारी की पुष्टि मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने की। उन्होंने बताया कि पुजारी एवं कुछ लोगों ने उसका चेहरा पहचाना और उसके बाद पुलिस को सूचना दी। उन्होंने कहा कि प्रारंभिक पूछताछ में उसके कोटा के रास्ते उज्जैन पहुंचने की बात सामने आई है। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से वह प्रारंभ से ही क्रूरता की हदें पार करता रहा है और उसने जो कृत्य किया वह बहुत निंदनीय था, बहुत चिंतनीय था। मध्य प्रदेश पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। 

गैंगस्टर विकास दुबे के आत्मसमर्पण पर CM शिवराज से भिड़े दिग्विजय सिंह

इस बीच पुलिस ने बताया कि दूबे के दो सहयोगियों को दो अलग-अलग मुठभेड़ मे मार गिराया गया। दूबे का साथी कार्तिकेय उर्फ प्रभात कानपुर में तब मारा गया जब उसने पुलिस हिसारत से भागने की कोशिश की जबकि दूसरा साथी बाबा दूबे इटावा में मुठभेड़ में मारा गया। कार्तिकेय को बुधवार को फरीदाबाद से गिरफ्तार किया गया था। एक अधिकारी के मुताबिक उसकी पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश करते समय गोली लगने से मौत हुई। उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया कि कार्तिकेय उर्फ प्रभात ने ट्रांजिट रिमांड पर फरीदाबाद से कानपुर लाए जाने के दौरान पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश की। 

विकास दुबे की गिरफ्तारी सुनियोजित आत्मसमर्पण है: मारे गए पुलिसकर्मी के रिश्तेदार का दावा

उन्होंने बताया कि कार्तिकेय ने पुलिसकर्मी की पिस्तौल छीन कर एसटीएफ कर्मियों पर गोली चला दी, जिसमें दो कर्मी घायल हो गए। कुमार ने बताया कि मुठभेड़ कानपुर के पनकी इलाके में हुई। पुलिस वाहन का टायर पंचर हो गया था और स्थिति का फायदा उठाते हुए कार्तिकेय ने भागने की कोशिश की। इस दौरान उसने एक पुलिसकर्मी की पिस्तौल छीन ली। कुमार ने बताया कि उसने पुलिसकर्मियों पर गोलियां चलाई और पुलिस की जवाबी कार्रवाई में घायल हो गया। उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया।

जम्मू कश्मीर : आतंकियों ने की भाजपा नेता की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत


कानपुर के बिकरू कांड के मुख्य आरोपी विकास दूबे का एक और करीबी साथी एवं इनामी बदमाश प्रवीण उर्फ बाबा दूबे को इटावा में पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ में मारा गया। इटावा पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने बताया कि पुलिस ने प्रवीण को तड़के करीब साढ़े चार बजे एक स्थान पर घेर लिया था और फिर दोनों तरफ से हुई गोलीबारी में वह मारा गया। उन्होंने बताया कि वह बिकरू कांड में वांछित था और उस पर पचास हजार रुपये का इनाम घोषित था। तोमर ने बताया कि प्रवीण के पास से एक राइफल और पिस्तौल भी बरामद की गई है। इसके पहले 3 जुलाई को पुलिस ने एक मुठभेड़ में प्रेम प्रकाश पांडे और अतुल दूबे को कानपुर में और अमर दूबे को हमीरपुर में मार गिराया था।

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...


 

comments

.
.
.
.
.