Sunday, Apr 18, 2021
-->
maharashtra anil deshmukh claims dead person hiren mansukh not real owner of vehicle rkdsnt

अनिल देशमुख का दावा - मृत व्यक्ति हिरेन मनसुख वाहन का असली मालिक नहीं

  • Updated on 3/5/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के निकट पिछले सप्ताह खड़े मिले विस्फोटक से लदे वाहन के मालिक हिरेन मनसुख का शुक्रवार को पड़ोसी ठाणे में नदी के तट पर शव मिला है। पुलिस ने यह जानकारी दी। इस मामले में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के बयान के बाद नया मोड़ आ गया। देशमुख ने दावा किया कि मृत व्यक्ति वाहन का असली मालिक नहीं है। 

TMC ने प. बंगाल प्रभारी चुनाव उपायुक्त सुदीप जैन पर उठाए सवाल, EC ने रुख किया साफ

ठाणे पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लगभग 45 वर्षीय मनसुख बृहस्पतिवार रात को लापता हो गया था। मुंब्रा रेती बुंदर रोड से लगी एक नदी के तट पर उसका शव मिला है। गौरतलब है कि दक्षिण मुंबई में अंबानी के बहुमंजिला घर ‘एंटीलिया’ के निकट 25 फरवरी को मनसुख की ‘स्कॉर्पियो’ कार के अंदर जिलेटिन की छड़ें रखी हुई मिली थीं। पुलिस ने कहा था कि कार 18 फरवरी को एरोली-मुलुंद ब्रिज से चोरी हुई थी। 

सुब्रमण्यन स्वामी ने श्रीधरन की उम्र को लेकर उठाए सवाल, आडवाणी-जोशी को किया याद

मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने इस मामले में मनसुख का बयान दर्ज किया था। वाहनों के पुर्जों का कारोबार करने वाले मनसुख ने कहा था कि अपनी कार चोरी होने के बाद उसने पुलिस में शिकायत दी थी। शुक्रवार दोपहर मनसुख के परिवार के सदस्यों ने ठाणे के नौपाड़ा पुलिस थाने को बताया था कि वह लापता है। 

भाजपा ने अंबानी के घर के पास वाहन मामले की जांच NIA को सौंपने की मांग की 

महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष देवेन्द्र फड़णवीस ने मुंबई में पत्रकारों से कहा कि मुख्य गवाह की मौत से संकेत मिलता है कि कुछ गड़बड़ है। उन्होंने कहा,‘‘मैं एक बार फिर मांग करता हूं कि मामले की जांच एनआईए को सौंपी जाए।‘‘     महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि मनसुख के शव पर घाव के निशान नहीं मिले हैं। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आनी बाकी है और महाराष्ट्र पुलिस इस मामले की जांच करने के लिये पूर्ण रूप से सक्षम है। 

अखिलेश का भाजपा पर निशाना, बोले- अहंकार ने दिल्ली के शासकों को ‘अंधा-बहरा’ बनाया

गृह मंत्री ने यह भी कहा कि वाहन के असली मालिक ने किसी काम के लिये मनसुख को कार दी थी। फड़णवीस ने कहा कि देशमुख को इस मामले की सही जानकारी नहीं दी गई है क्योंकि मनसुख ने ही पुलिस को बताया था कि वह कार का मालिक है। 

आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में अर्नब गोस्वामी को पेशी से मिली छूट 

संसदीय मामलों के मंत्री अनिल परब ने कहा कि जरूरी नहीं कि उस व्यक्ति ने सच बताया हो। उन्होंने कहा,‘‘पुलिस को मामले की जांच करने दी जाए। उन्हें कुछ समय दीजिये और हमें उनपर पूरा भरोसा है।‘‘ परब ने कहा कि एनआईए पहले ही समानांतर जांच कर रही है।     

केंद्र के नियमों में डिजिटल प्लेटफॉर्म के खिलाफ कार्रवाई करने के कोई प्रावधान नहीं: सुप्रीम कोर्ट 

 

 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 


 

comments

.
.
.
.
.