Saturday, Oct 01, 2022
-->
mayawati attacks yogi government on ballia firing case sohsnt

बलिया गोलीकांड पर मायावती का योगी सरकार पर हमला, कहा- राज्य में दम तोड़ चुकी है कानून व्यवस्था

  • Updated on 10/16/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश (Uttar pradesh) के बलिया (ballia) में सस्ते गल्ले की दुकान के चयन को लेकर बुलाई गयी बैठक में गोली चलने की घटना पर बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने शुक्रवार को गहरी चिंता जताते हुये कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था दम तोड़ चुकी है।

सुप्रीम कोर्ट का आदेश - इलाहाबाद हाई कोर्ट करेगा हाथरस मामले की निगरानी 

बलिया घटना पर मायावती ने जताई नाराजगी
मायावती ने शुक्रवार को ट्वीट कर लिखा, 'उत्तर प्रदेश के बलिया की हुई घटना अति-चिन्ताजनक तथा अब भी महिलाओं एवं बच्चियों पर आये दिन हो रहे उत्पीडन आदि से यह स्पष्ट हो जाता है कि यहां कानून-व्यवस्था दम तोड़ चुकी है। सरकार इस ओर ध्यान दे तो यह बेहतर होगा। बसपा की यह सलाह।'  गौरतलब है कि बलिया जिले के रेवती क्षेत्र में बृहस्पतिवार अपरान्ह सरकारी सस्ते गल्ले के दुकान के चयन को लेकर बुलायी गयी बैठक के दौरान गोली चलने से एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। 

बेटे की शादी के बाद मां ने किया खुलासा, कहा- ये नहीं हैं तेरे असली पिता

क्या था मामला
दरअसल, बलिया जिले की ग्राम सभा दुर्जनपुर और हनुमानगंज की कोटे की दो दुकानों के आवंटन को लेकर बीते गुरुवार को पंचायत भवन पर खुली बैठक बुलाई गई थी। इसमें बैरिया के एसडीएम (SDM) सुरेश पाल, सीओ (CO) चंद्रकेश सिंह और बीडीओ (BDO) गजेन्द्र प्रताप सिंह भी उपस्थित थे, इसके अलावा यहां रेवती थाने की पुलिस फोर्स मौजूद थी।

राहुल राजपूत हत्याकांड: छठा आरोपी गिरफ्तार, पीड़ित पिता ने की फांसी की मांग

वोटिंग को लेकर दो पक्षों में हुई भिडंत
इस बैठक के दौरान दुर्जनपुर की दुकान के लिये आम सहमति न बनते देख दो समूहों के बीच वोटिंग कराने का निर्णय लिया गया। ये दो समूह थे मां सायर जगदंबा स्वयं सहायता समूह और शिव शक्ति स्वयं सहायता समूह। यहां उन्हीं लोगों को मतदान करने का अधिकार दिया गया जिनके पास आधार या अन्य कोई पहचान पत्र होगा। मामला तब बिगड़ गया. जब एक समूह के पास अधार व पहचान पत्र मौजूद थे, लेकिन दूसरे समूह के पास वोटिंग के लिए कोई प्रमाण नहीं था। इस बात पर दोनों पक्षों के बीच विवाद बढ़ते देख पुलिस ने मामले को शांत कराने की कोशिश की, लेकिन विवाद नहीं थमा।

यूपी विधानसभा के आगे महिला ने खुद को किया आग के हवाले, पुलिस के हाथ-पांव फूले

गोलीबारी में जयप्रकाश नामक युवक की मौत
मामला इतना बिगड़ क्या की एक पक्ष ने अधिकारियों पर ही पक्षपात करने का आरोप लगा दिया, देखते ही देखते दोनों पक्षों के बीच ईट-पत्थर से शुरू हुई भिंड़त गोलीबारी में तब्दील हो गई। इस दौरान दुर्जनपुर के जयप्रकाश उर्फ गामा पाल (46) को शरीर में एक के बाद एक चार गोलियां उतार दीं, जिसके बाद मौके पर ही जयप्रकाश ने दम तोड़ दिया। फिलहाल, यहां तनाव की स्थिति बढ़ते देख भारी तादात में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है। पुलिस आगे की जांच में जुट गई है। 

UP के गोंडा में तीन बहनों पर एसिड अटैक, एक की हालत नाजुक, जांच में जुटी पुलिस

इन अधिकारियों पर गिरी गाज
बलिया में पुलिस की मौजूदगी में हुई इस घटना को लेकर सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने मौके पर मौजूद एसडीएम सुरेश पाल, सीओ चंद्रकेश सिंह और पुलिसकर्मियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के आदेश जारी कर दिये हैं। इसके साथ ही आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा मामले में मौके पर मौजूद सभी अधिकारियों की भूमिका की जांच की जाएगी और जिम्मेदार पाए जाने पर आपराधिक कार्रवाई किए जाने की बात कही है। फिलहाल, पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई है। 

comments

.
.
.
.
.