Sunday, Feb 05, 2023
-->
mcd-election-ticket-bribery-case-aap-mla-akhilesh-pati-tripathi-appears-before-acb

MCD चुनाव टिकट रिश्वत मामला: ‘आप' विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी ACB के समक्ष पेश

  • Updated on 11/17/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी पार्षद चुनाव का टिकट दिलवाने के बदले कथित तौर पर रिश्वत लेने के मामले में बृहस्पतिवार को दिल्ली सरकार की भ्रष्टाचार रोधी शाखा (एसीबी) के समक्ष पेश हुए। एसीबी ने नगर निकाय चुनाव में ‘आप' के एक कार्यकर्ता की पत्नी के लिए टिकट की व्यवस्था कराने के लिए कथित तौर पर 90 लाख रुपये की रिश्वत मांगने के मामले में मंगलवार को त्रिपाठी के साले और उसके दो सहयोगियों को गिरफ्तार किया था।

एसीबी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि त्रिपाठी से बृहस्पतिवार सुबह भ्रष्टाचार रोधी शाखा के समक्ष पेश होने को कहा गया था और उनसे पूछताछ जारी है। बुधवार को जारी एक आधिकारिक बयान में बताया गया था कि रिश्वत का यह कथित मामला सोमवार को उस समय प्रकाश में आया, जब गोपाल खारी नाम का एक व्यक्ति अपनी शिकायत लेकर एसीबी के पास पहुंचा। खारी ने दावा किया कि वह साल 2014 से ‘आप' से एक सक्रिय कार्यकर्ता के रूप में जुड़ा हुआ है।

एसीबी ने बताया था कि खारी ने पिछले बुधवार को मॉडल टाउन के विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी से मुलाकात कर अपनी पत्नी को कमला नगर के वार्ड नंबर 69 से पार्षद चुनाव के लिए ‘आप' का टिकट दिलाने का अनुरोध किया था। एसीबी के मुताबिक, त्रिपाठी ने टिकट के बदले कथित तौर पर 90 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी, जिसके बाद खारी ने उन्हें 35 लाख रुपये का भुगतान किया था।

शिकायत के अनुसार, त्रिपाठी के कहने पर खारी ने ‘आप' विधायक राजेश गुप्ता को भी 20 लाख रुपये दिए थे। इसमें दावा किया गया है कि खारी ने त्रिपाठी से कहा था कि वह बाकी राशि का भुगतान टिकट मिलने के बाद करेगा। एसीबी के मुताबिक, हालांकि ‘आप' द्वारा रविवार को जारी उम्मीदवारों की सूची में खारी को अपनी पत्नी का नाम नहीं दिखा। शिकायत के अनुसार, बाद में त्रिपाठी के साले ओम सिंह ने खारी से संपर्क किया और भरोसा दिलाया कि उन्हें अगले चुनाव में टिकट दिया जाएगा।

शिकायत के मुताबिक, सिंह ने खारी को रिश्वत की रकम लौटाने की पेशकश भी की। एसीबी के अनुसार, सोमवार और मंगलवार की दरमियानी रात को उसने खारी के घर पर जाल बिछाकर सिंह और उसके सहयोगियों-शिव शंकर पांडे तथा प्रिंस रघुवंशी को गिरफ्तार कर लिया, जो खारी को त्रिपाठी द्वारा लिए गए 33 लाख रुपये लौटाने पहुंचे थे। एसीबी ने बताया कि सिंह, पांडे और रघुवंशी को भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के विभिन्न प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया।

एसीबी के मुताबिक, पांडे ‘आप' विधायक अखिलेश पति त्रिपाठी का साला है। एसीबी के अनुसार, शिकायतकर्ता ने रिश्वत की राशि के भुगतान और वापसी के दौरान हुई कथित बातचीत की ऑडियो और वीडियो रिकॉर्डिंग भी पेश की है। भ्रष्टाचार निरोधी शाखा ने कहा कि पूरे मामले का पता लगाने और सबूत इकट्ठा करने के लिए जांच की जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.